पाकिस्तान में मानवाधिकार कार्यकर्ता की हत्या

पाकिस्तान इमेज कॉपीरइट FACEBOOK Khurram al Nimr

पाकिस्तान में एक जाने-माने पत्रकार और मानवाधिकार कार्यकर्ता ख़ुर्रम ज़ाकी की कराची में गोली मारकर हत्या कर दी गई है.

ज़ाकी एक रेस्त्रां में खाना खा रहे थे जब मोटरसाइकिल पर सवार संदिग्धों ने उन पर गोलियां चलाईं.

ख़ुर्रम ज़ाकी 'लेट अस बिल्ड पाकिस्तान' वेबसाइट के संपादक थे. ये वेबसाइट पाकिस्तान में सांप्रदायिकता की मुख़ालफ़त और लोकतंत्र और प्रगतिशील विचारधारा की समर्थक है.

इमेज कॉपीरइट AFP

पाकिस्तान तालिबान के प्रवक्ता ने हमले की ज़िम्मेदारी लेते हुए कहा कि इस्लामाबाद की लाल मस्जिद के इमाम अब्दुल अज़ीज़ के ख़िलाफ़ ख़ुर्रम ज़ाकी के बयानों के कारण उनकी हत्या की गई है.

ज़ाकी और अन्य प्रचारकों ने अब्दुल अज़ीज़ के ख़िलाफ़, शिया समुदाय के लोगों के ख़िलाफ़ नफ़रत और हिंसा भड़काने का मामला दर्ज कराया था.

शनिवार रात इस हमले में दो और लोग घायल हो गए हैं, जिनमें एक शख़्स ज़ाकी के साथ खाना खा रहा था.

इमेज कॉपीरइट Reuters

वेबसाइट 'लेट अस बिल्ड पाकिस्तान' के कर्मचारियों ने ख़ुर्रम ज़ाकी को श्रद्धांजलि दी और कहा है कि वो चरमपंथियों के ख़िलाफ़ अपनी जंग जारी रखेंगे.

उन्होंने कहा कि अल्पसंख्यकों के अधिकारों के लिए पाकिस्तान के सब पत्रकार मिलकर जितनी आवाज़ उठा रहे हैं उससे कहीं ज़्यादा बतौर नागरिक पत्रकार ज़ाकी ने उठाए.

बयान में कहा गया है, "उनकी मौत इस बात की याद दिलाती है कि पाकिस्तान में तालिबान के ख़िलाफ़ जो आवाज़ उठाएगा उसे बख़्शा नहीं जाएगा और जब उन्हें हत्या करनी होती है वो कभी नाक़ाम नहीं होते."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार