मदर्स डे पर किसी को माँ की गाली नहीं दी?

  • 9 मई 2016
मदर्स डे इमेज कॉपीरइट AP

रविवार, आठ मई को मातृदिवस था जाहिर है कि आप में से बहुतों ने माता जी के पैर छूए होंगे, उनसे दुआएं ली होंगी.

बहुतों ने माता जी को चादर, फूल या कोई भी तोहफा लेकर दिया होगा.

कुछ बेटे और बेटियां माता जी को बाहर खाने पर भी ले गए होंगे. हो सकता है सब कुनबे में माता जी को सिनेमा ले जाकर उनकी पसंद की फिल्म साथ बैठकर देखी हो.

क्या पिताजी भी आपके मातृदिवस में भागीदार थे या आपने उन्हें भी राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी की तरह रविवार को भी बस ऊंचे स्थान पर मूरत जैसा बिठाए रखा.

जाहिर है, वैसे तो हमलोग साल का हर दिन मातृदिवस के तौर पर मनाने की कोशिश करते हैं मगर इस ख़ास दिन शायद ख़ास इंतज़ाम भी करते हैं.

मां को हम क्या दे सकते हैं, मगर फिर भी.

खुद से पूछिए कि कल आपने किसी दोस्त या दुश्मन को मां की गाली तो नहीं दी थी.

क्या आपने किसी और की मां को भी आंटी जी मातृदिवस की बधाई कहा था?

क्या आपके दोस्त या सहेलियां माता जी से आर्शीवाद लेने आए थे? ख़ुद आपने किसी अजनबी अम्मा से कहा था कि आओ माता जी तुम्हें मैं सड़क पार करा दूं. माता जी गर्मी बहुत है शर्बत पिओगी? माता जी तुमने खाना खाया है? माता जी तुम अकेली बैठी हो जरा देर को मैं तुम्हारे साथ बैठ लूं ?

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

माता जी तुम्हें जाना कहां है? भाड़े के पैसे हैं क्या?

अच्छा छोड़िए इन बातों को. ये बताइए कि रविवार को भी बहुत से घरों में माता-पिता की बोलचाल बंद रही होगी.

आप में से कितनों ने उन दोनों को साथ बिठाकर मां की गोद में मुंडी रखकर कहा हो कि अपने पति से तुम भले ही बोलो ना बोलो लेकिन हमारे अब्बा से खटपट ना किया करो.

या किसी ने ये जुर्रत भी की कि मातृदिवस पर हफ़्ते भर से चल रही सास-बहू की टेंशन खत्म कराने की कोशिश की हो और यह कोशिश सफल भी हो गई हो.

इमेज कॉपीरइट Alia Bhatt Twitter

निशानी इसकी यह है कि क्या माता जी ने आपके गाल खींचे या बहू के सिर पर हाथ फेर मुस्करायीं.

क्या कहा !

इनमें से कुछ भी नहीं किया.

बिजी थे यानी कल भी माता जी से फोन पर ही बात हुई और वो भी बस ढाई मिनट की.

अरे तो फिर आपने कद्दू मातृदिवस मनाया?

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार