'पड़ोस में आग लगे तो दरवाज़ा बंद कर लेना हल नहीं'

एंजेलीना जोली इमेज कॉपीरइट bbc

संयुक्त राष्ट्र की शरणार्थियों के लिए एजेंसी की विशेष दूत और मशहूर हॉलीवुड अदाकारा एंजेलीना जोली-पिट ने चेताया है कि शरणार्थियों के लिए बनी अंतरराष्ट्रीय मानवीय मदद की व्यवस्था चरमरा रही है.

अंतरराष्ट्रीय शरणार्थी समस्या को लेकर बीबीसी वर्ल्ड के एक कार्यक्रम में एंजेलीना जोली ने शरणार्थी समस्या से आंख चुराने पर चेतावनी देते हुए कहा कि ऐसे मौके पीढ़ियों में एकाध बार आते हैं, जब देशों को एक साथ मिलकर काम करना होता है.

इससे पहले यूएनएचआरसी के मुखिया फ़िलिप ग्रांडी ने बीबीसी से कहा था कि शरणार्थियों को महज लौटा देना 'समस्या का हल नहीं' है.

बीबीसी न्यूज़ वर्ल्ड ऑन द मूव - शरणार्थी समस्या और हमारी दुनिया पर इसके प्रभाव पर केंद्रित कवरेज वाला कार्यक्रम है.

इमेज कॉपीरइट EPA

जोली ने कहा कि इस समय शरणार्थी समस्या पिछले 70 सालों में सबसे अधिक गंभीर हो चुकी है और दुनिया में लगभग छह करोड़ लोग (यानी 122 में से एक व्यक्ति) अपना घर छोड़ चुके हैं.

उन्होंने कहा, "दुनिया में शांति और सुरक्षा को लेकर यह बहुत ही चिंताजनक बात है. संघर्ष वाले क्षेत्रों की संख्या बढ़ी है और बड़े पैमाने पर पलायन में भी तेजी आई है, लेकिन शरणार्थियों को सुरक्षा मुहैया कराने वाला तंत्र काम नहीं कर रहा है."

उन्होंने कहा कि संयुक्त राष्ट्र फंड की भारी कमी से जूझ रहा है. जोली ने कहा कि शरणार्थियों को अलग थलग करना समस्या का हल नहीं है.

उन्होंने कहा, "अगर आपके पड़ोसी के घर में आग लगी हो और आप अपना दरवाजा बंद कर लें, तो आप सुरक्षित नहीं रहेंगे. निडर रहने में ही मजबूती है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार