लीबिया को हथियार देंगे पश्चिमी देश

इमेज कॉपीरइट

अमरीका और विश्व शक्तियों ने कहा कि वो लीबिया में संयुक्त राष्ट्र के समर्थन वाली सरकार को हथियार मुहैया करने के लिए तैयार हैं ताकि वो इस्लामी चरमपंथी समूह इस्लामिक स्टेट से मुकाबला कर सके.

अमरीकी विदेश मंत्री जॉन कैरी ने विएना में हुई एक अहम बैठक में कहा कि हथियारों की आपूर्ति पर संयुक्त राष्ट्र की तरफ़ से लगाई गई रोक को हटवाने की लीबिया की कोशिशों को समर्थन दिया जाएगा.

उन्होंने कहा कि आईएस लीबिया के लिए 'नया ख़तरा' है और उसे 'रोका जाना ज़रूरी है'.

पिछले महीने लीबिया की सरकार ने चेतावनी दी थी कि अगर आईएस को नहीं रोका गया तो वो देश के एक बड़े हिस्से पर क़ब्ज़ा कर सकता है.

अंतरराष्ट्रीय साझीदारों से विएना में बातचीत के बाद कैरी ने कहा, "राष्ट्रीय एकता वाली सरकार ही वो संस्था है जो लीबिया को एकजुट कर सकती है."

लीबिया में दशकों तक राज करने वाले कर्नल गद्दाफ़ी को अक्टूबर 2011 में सत्ता से बाहर किए जाने के बाद से वहां अफ़रातफ़री का माहौल है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

हाल तक वहां दो समांतर सरकारें चल रही थीं. इसके अलावा वहां बहुत से चरमपंथी गुट सक्रिय हैं जिनमें से कुछ का संबंध आईएस से है.

पश्चिमी देशों को उम्मीद है कि राष्ट्रीय एकता वाली सरकार आईएस से मुक़ाबला करेगी, जिसका गढ़ गद्दाफ़ी के गृह नगर सिर्ते में है.

आईएस ने लीबिया में हाल के दिनों में एक के बाद एक कई हमले किए हैं जिनमें तेल उत्पादन केंद्रों को भी निशाना बनाया गया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार