ज़ीका वायरस को लेकर कांग्रेस पर बरसे ओबामा

इमेज कॉपीरइट Getty

राष्ट्रपति बराक ओबामा ने अमरीकी कांग्रेस की आलोचना की क्योंकि उसने ज़ीका वायरस के फैलाव से निपटने के लिए 1.9 अरब डॉलर सहायता राशि मंजूर करने के ओबामा आग्रह को नहीं माना है.

उन्होंने चेतावनी दी है कि आने वाले समय में देश को बड़ी समस्याओं का सामना करना पड़ सकत है.

बराक ओबामा की टिप्पणी ऐसे वक़्त में आई है जब ताज़ा आंकड़े दर्शाते हैं कि अमरीका में क़रीब 300 गर्भवती महिलाओं में ज़ीका वायरस परीक्षण पॉजिटिव रहा है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

इस वायरस के संक्रमण से पैदा होने वाले बच्चों में जन्मजात गंभीर समस्याएं हो सकती हैं. यह मच्छरों के काटने या फिर यौन संबंध से फैलता है.

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने कहा है कि ज़ीका वायरस वैश्विक स्तर पर सार्वजनिक स्वास्थ्य के लिए आपात स्थिति पैदा कर रहा है.

इससे माइक्रोसेफली यानी जन्मजात दोष देखा जाता है जिसमें नवजात बच्चों के सिर अपेक्षाकृत छोटे आकार के होते हैं और उनके मानसिक और शारीरिक विकास में भी बाधा आ सकती है.

ब्राज़ील में माइक्रोसेफली के 1,300 मामले सामने आए हैं और करीब हज़ारों ऐसे मामले की जांच चल रही है.

हल्का बुख़ार, सिरदर्द, जोड़ों का दर्द और कंजक्टिवाइटिस ज़ीका वायरस के लक्षण हैं.

शुक्रवार को राष्ट्रपति ओबामा ने कहा कि 'सीनेट आवश्यक फंड का आधा हिस्सा देने को ही तैयार हुई है जबकि प्रतिनिधि सभा एक-तिहाई अनुदान ही देना चाहती है.'

इमेज कॉपीरइट Getty

यहां तक कि ज़ीका के लिए निर्धारित राशि को इबोला के ख़तरे से निपटने के लिए ख़र्च कर दिया गया.

ओबामा ने कहा, "हम ऐसी कोई दीवार खड़ी नहीं कर सकते हैं जिससे ज़ीका का प्रसार रोका जा सके. किसी हद तक हम ज़ीका से निपटने के लिए सीधे रास्ते को नहीं अपना रहे हैं जो आगे चलकर बहुत बड़ी समस्या का कारण बन सकता है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार