बड़ी गिरावट के बाद तेल की क़ीमत फिर गर्म

कच्चा तेल इमेज कॉपीरइट Getty

साल 2016 में कच्चे तेल की क़ीमतें पहली बार 50 डॉलर प्रति बैरल के पार पहुंची हैं.

ये इस बात का संकेत है कि आपूर्ति में कमी और वैश्विक मांग में बढ़ोतरी के चलते वैश्विक अर्थव्यवस्था में सुधार हो रहा है.

गुरुवार को ब्रेंट क्रूड ऑयल एक समय 50.22 डॉलर प्रति बैरल तक पहुंच गया. पिछले नवंबर के बाद ऐसी स्थिति पहली बार आई है.

गुरुवार को अमरीका में जारी आंकड़ों में तेल के स्टॉक में गिरावट दर्ज की गई थी जिसके बाद तेल की क़ीमतों में उछाल आया है.

आंकड़ों के अनुसार, मई के तीसरे हफ़्ते में देश में कच्चे तेल का स्टॉक 42 लाख बैरल तक कम हो गया था.

इमेज कॉपीरइट KANAWHA COUNTY COMMISSION
Image caption पश्चिमी वर्जीनिया में तेल के कुंओं में लगी आग

ब्रेंट कच्चे तेल की क़ीमतें इस साल की शुरुआत में पिछले 13 सालों में सबसे कम, यानि 28 डॉलर प्रति बैरल तक पहुंच गई थीं. तबसे इसकी क़ीमतों में 80 प्रतिशत सुधार आया है.

अमरीका अपनी ज़रूरत के कच्चे तेल का अधिकांश हिस्सा कनाडा से आयात करता है. कनाडा के पश्चिमी हिस्सों में जगलों में लगी आग से तेल के उत्पादन में 10 लाख बैरल प्रतिदिन की कमी आई है.

हाल के महीनों में ओपेक देशों और रूस के बीच हुई बातचीत के बाद तेल उत्पादन में कमी करने के बाद क़ीमतों में सुधार हुआ है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं

संबंधित समाचार