नम आंखों के साथ वापस लिया 11 साल लंबा विरोध

चर्च के बंद होने पर भावुक अनुयायी इमेज कॉपीरइट AP

अमरीका के मैसाच्यूसेट्स में एक गिरजाघर को बंद करने के ख़िलाफ़ अनुयायियों ने 11 साल पुरानी अपनी लड़ाई में हार स्वीकार कर ली.

इसी महीने सुप्रीम कोर्ट ने बोस्टन के रोमन कैथलिक आर्कडियोसेस के चर्च को बंद करने के फ़ैसले के खिलाफ़ अपील पर सुनवाई से इनकार कर दिया था.

स्किचुएट में सेंट फ्रांसेस दसवें कैब्रिनी चर्च में रात भर चली एक भावुक प्रार्थना सभा के बाद रविवार को अनुयायियों ने अपना विरोध वापस लेने का फ़ैसला लिया.

गिरजाघर में करीब 11 साल से 100 अनुयायियों का समूह धरना दे रहा था.

प्रार्थना सभा के बारे में कहा गया कि ये विश्वास और परिवर्तन का उत्सव है.

इमेज कॉपीरइट AP

चर्च की दीवारों पर हर साल होने वाली प्रार्थना सभाओं की यादों को सहेजकर रविवार को बाहर ले जाया गया, ये एक भावुक पल था और इसमें कई अनुयायी एक दूसरे के गले लगकर रो रहे थे .

आर्कडियोसेस ने चर्च आने वाले लोगों की घटती संख्या, इमारतों की ख़स्ता हालत और पादरियों की कमी के कारण सेंट फ़्रासेस दसवें कैब्रिनी समेत 75 अन्य गिरजाघरों को बंद करने का फ़ैसला किया था.

कई चर्च इस फ़ैसले का विरोध करते रहे लेकिन सेंट फ़्रासेस चर्च विरोध ख़त्म करने वाला आख़री गिरजाघर था.

इमेज कॉपीरइट AP

गिरजाघर में धरने के अलावा कानूनी लड़ाई कई अदालतों से होते हुए वैटिकन तक पहुंची थी लेकिन हर जगह नाकामी हाथ लगी.

राज्य की सुपीरियर कोर्ट के जज ने कहा कि आर्कडियोसेस कानूनी तरीके से विरोध करने वालों को चर्च से हटा सकते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार