यूरो कप के दौरान चरमपंथी हमले का ख़तरा: अमरीका

फ़्रांस की पुलिस इमेज कॉपीरइट Reuters

अमरीका ने चेतावनी दी है कि फ़्रांस में 10 जून से शुरू होने वाले यूरो कप फ़ुटबॉल टूर्नामेंट को चरमपंथी निशाना बना सकते हैं.

अमरीका के गृह मंत्रालय का कहना है कि गर्मी के दौरान बड़ी संख्या में यूरोप जा रहे पर्यटकों की वजह से वहां चरमपंथी हमले का डर बढ़ गया है.

अमरीका ने यूरोप जा रहे अमरीकी नागरिकों को अलर्ट जारी कर उनसे सावधान रहने की अपील की है.

पर्यटक स्थलों, रेस्त्रां, बाज़ार, बसों और ट्रेन पर हमलों की आशंका ज़्यादा है.

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption मॉक ड्रिल करती फ़्रांस की पुलिस

पिछले 20 सालों में ये सिर्फ़ तीसरा मौक़ा है जब अमरीका ने यूरोप जाने को लेकर अपने नागरिकों के लिए अलर्ट जारी किया है.

यूरो 2016 एक महीने तक चलेगा.

फ्रांस के 10 शहरों में कुल 51 मैच खेले जाएंगे और क़रीब 25 लाख लोगों के स्टेडिम में मैच देखने की संभावना है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

टूर्नामेंट के लिए दूसरे देशों से 10 लाख लोग फ़्रांस पहुंच सकते हैं और सुरक्षा के लिए 90 हज़ार कर्मियों को तैनात किया जाएगा.

पिछले साल पेरिस हमले में 130 लोग मारे गए थे.

इसके अलावा फ़्रांस से सटे बेल्जियम में भी ब्रसेल्स एयरपोर्ट और मेट्रो स्टेशन में हुए हमलों में 32 लोग मारे गए थे.

तभी से फ़्रांस चरमपंथियों के निशाने पर बना हुआ है.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार