'अमरीका पर भरोसा करना ग़लत था, अब नहीं'

  • 4 जून 2016
इमेज कॉपीरइट Getty

ईरान के शीर्ष नेता आयतुल्लाह ख़ामेनई का कहना है कि ईरान क्षेत्रीय मुद्दों पर ब्रिटेन और अमरीका के साथ सहयोग नहीं करेगा.

टीवी पर अपने संबोधन में आयतुल्लाह ख़ामेनई ने कहा कि इलाक़े में अमरीका का मक़सद ईरान के 180 डिग्री विरोधी हैं.

आयतुल्लाह ख़ामेनई ने अमरीका पर आरोप लगाया कि 'वह पश्चिम में ईरान के साथ परमाणु समझौते पर वादा ख़िलाफ़ी कर रहा है और अमरीका पर भरोसा करना ग़लती थी.'

इमेज कॉपीरइट AFP
भविष्य मि साइलों पर केव ल बातचीत नहीं' अमरीका ईरानी बैंकों को कमजोर कर रहा है: अली ख़ामेनई

'शैतान बुज़ुर्ग (अमरीका) और बुराई (ब्रिटेन) अपने वादे पूरे न करने के लिए मानव अधिकारों के उल्लंघन और चरमपंथ जैसे बहानों का उपयोग कर रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट Reuters

ईरान के शीर्ष नेता ने यह बयान ईरान में क्रांति के संस्थापक अयातुल्ला रूहुल्ला ख़ुमैनी की बरसी के मौक़े पर दिया.

उन्होंने इससे पहले अमरीका पर ईरानी बैंकों को कमज़ोर करने का आरोप लगाया था.

ईरान और छह पश्चिमी देशों के बीच मील का पत्थर माने जाने वाले समझौते का उद्देश्य ईरान पर उसकी परमाणु गतिविधियों को सीमित करने के बदले में आर्थिक प्रतिबंध हटाना था.

इमेज कॉपीरइट Reuters

हालांकि अमरीका ने इस साल समझौते के बावजूद बैलिस्टिक मिसाइल का परीक्षण करने के बाद ईरानी कंपनियों और बहुत से लोगों पर नए प्रतिबंध लगा दिए थे.

ईरान का कहना है कि ये मिसाइल परीक्षण केवल रक्षा उपयोग के लिए हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP

मार्च में ईरान ने अन्य प्रयोग किए हैं.

अपने भाषण में आयतुल्लाह ख़ामेनई ने ईरानी जनता से कहा कि "वह उनके ख़िलाफ़ जो ईरान को धमकाने की कोशिश करते हैं, मज़बूत, एकजुट और क्रांतिकारी रहें."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार