'चीन को दबाकर आगे नहीं बढ़ सकता भारत'

मोदी ओबामा इमेज कॉपीरइट GETTY

चीन के सरकारी मीडिया का कहना है कि भारत चीन को 'दबाकर या फिर कोस कर' आगे नहीं बढ़ सकता है.

चीन के सरकारी अख़बार 'ग्लोबल टाइम्स' ने ऐसे समय में ये बात लिखी है जब भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अमरीकी दौरे पर हैं और दोनों देशों के बीच रिश्ते लगातार मज़बूत हो रहे हैं.

'ग्लोबल टाइम्स' ने लिखा है कि मोदी ने दो सालों में चार बार अमरीका की यात्रा और सात बार अमरीकी राष्ट्रपति से मुलाक़ात कर भारत-अमरीका के संबंधों को ऐतिहासिक ऊंचाई पर पहुंचा दिया है.

अख़बार कहता है कि चीन भारत के लिए प्रतिद्वंद्वी से कहीं ज्यादा एक सहयोगी है और इसीलिए दोनों देशों को विभिन्न क्षेत्रों में सहयोग बढ़ाने और उसके अवसर तलाशने पर जोर देना चाहिए.

अख़बार के मुताबिक़, भले ही चीन कई मामलों में भारत का प्रतिद्वंद्वी हो सकता है, लेकिन उसे घेर कर या उस पर प्रहार कर भारत अपने विज़न को हक़ीक़त में नहीं बदल सकेगा.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अमरीकी दौरे को लेकर अख़बार ने कहा है कि भारत कई मामले में बड़ी कामयाबी की उम्मीद कर रहा है.

इमेज कॉपीरइट PIB

इनमें कारोबार, सुरक्षा सहयोग और परमाणु मुद्दे भी शामिल हैं.

'ग्लोबल टाइम्स' की ये ख़बर कहती है कि एशिया प्रशांत क्षेत्र में नए समीकरण बनाने में जुटे अमरीका के लिए भारत बड़ा सहयोगी हो सकता है.

इमेज कॉपीरइट Xinhua

लेकिन अख़बार ने भारत के बारे में लिखा है कि वह अपने स्वतंत्र और गुटनिरपेक्ष सिद्धांतों को नहीं छोड़ेगा.

चीनी अख़बार कहता है कि भारत को सुपर पॉवर बनना है तो इसकी पहली शर्त है दूसरी ताक़तों के साथ संतुलन बनाए रखना.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार