मासूम को माता-पिता से मिलाने की मुहिम

  • 11 जून 2016
गैबरीला का परिवार इमेज कॉपीरइट Other

ईरान में दो साल की एक ब्रिटिश बच्ची हैं गैब्रिएला, जिसके साथ न तो उनकी माँ है और न पिता.

उनकी माँ 37 साल की नाज़नीन ज़ाग़री रैटक्लिफ़ 2 महीने से ईरान की जेल में बंद हैं. उन्हें 3 अप्रैल को ईरान हवाई अड्डे से गिरफ़्तार कर लिया गया था जब वह अपने परिवार से मिल कर लंदन वापस जा रही थीं.

इमेज कॉपीरइट PA

उनके पिता रिचर्ड रैटक्लिफ़ उत्तर लंदन में रहते हैं और उन्हें सुरक्षा कारणों से सलाह दी गई है कि वो ईरान से दूर रहें.

गैब्रिएला का दूसरा जन्मदिन उसके पिता ने लंदन के दूतावास से संदेश भेजकर मनाया है.

इमेज कॉपीरइट Other

उन्होंने अपनी बेटी को सोशल साइट 'स्काइप' से जन्मदिन की बधाई दी है. शुभकामना के इस संदेश ने अब एक अभियान का रूप ले लिया है.

गैब्रिएला के मामले में प्रधानमंत्री डेविड कैमरन के हस्तक्षेप के लिए एक अभियान चलाया गया है, जिसके लिए अभी तक 7 लाख़ से ज़्यादा लोगों ने याचिका पर हस्ताक्षर किए हैं.

इमेज कॉपीरइट Other

गैब्रिएला को पूरी दुनिया से ईरान दूतावास के माध्यम से हज़ारों की संख्या में जन्मदिन संदेश भेजे जा रहे हैं. जिसमें उसकी माँ नाज़नीन को भी छोड़े जाने की अपील शामिल है.

गैब्रिएला को उसके माता-पिता से मिलाने के लिए एक वेबसाइट के जरिए अभियान चलाया जा रहा है जिसमें उसके परिवार, दोस्त और पड़ोसियों समेत कई लोग शामिल हैं.

इमेज कॉपीरइट Other

रिचर्ड कहते हैं कि उनकी पत्नी को बिना किसी आरोप के गिरफ़्तार किया गया है. उधर गैब्रिएला फिलहाल ईरान में अपने नाना-नानी के साथ हैं और उनका पासपोर्ट भी ज़ब्त कर लिया गया है.

ईरानी कानूनों के मुताबिक़ अब वो तभी वापस जा सकती हैं, जब उसके माता या पिता उनके साथ हों.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार