25 साल में गोलीबारी से कई बार दहला अमरीका

  • 13 जून 2016
अमरीका में फ़ायरिंग इमेज कॉपीरइट AP

अमरीका में अंधाधुंध गोलीबारी कर लोगों की सामूहिक हत्याओं की घटनाएं अतीत में कई बार हुई हैं.

ऑरलैंडों में समलैंगिकों के एक क्लब में गोलीबारी में 50 से ज़्यादा लोगों की हत्या का मामला ताज़ा है.

पिछले साल कैलिफ़ोर्निया के सैन बर्नार्डिनो में एक पार्टी में फ़ायरिंग में 14 लोगों की मौत हो गई थी.

अमरीका में 'मास शूटिंग ट्रैकर' के मुताबिक पिछले साल अमरीका में 372 गोलीबारी की घटनाओं में 475 लोगों की मौत हुई और 1,870 लोग घायल हुए. सामूहिक गोलीबारी में उस घटना को गिना जाता है जिनमें एक घटना में चार या उससे ज़्यादा लोगों की मौत होती है या फिर लोग घायल होते हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP

एक नज़र पिछले 25 सालों में अमरीका में गोलीबारी की घटनाओं पर

  • फ़्लोरिडा के ऑरलैंडो में उमर मतीन ने समलैंगिकों के एक क्लब में अंधाधुंध गोलीबारी की. इसमें 50 से ज़्यादा लोगों की मौत हो गई है.
  • पिछले साल 2015 में सैन बर्नारडिनो में एक दंपत्ति सैयद रिज़वान फ़ारूख़ और तशफ़ीन मलिक ने अंधाधुंध फ़ायरिंग की थी जिसमें 14 लोगों की मौत हो गई थी. इस घटना में ये दोनों भी मारे गए थे.

  • 2007 में वर्जीनिया टेक यूनिवर्सिटी में छात्र सेउंग-हुई चो ने छात्रों पर गोलीबारी कर 32 लोगों की हत्या कर दी, बाद में उसने ख़ुद अपनी जान ले ली थी.
  • 2012 में कनेक्टिकट के सैंडी हूक में एडम लान्ज़ा ने छह से सात साल के 20 बच्चों समेत छह वयस्कों की हत्या कर दी थी. इस घटना में 27 जानें गई थीं.
  • 1991 में जॉर्ज हेनार्ड ने टेक्सास के किलीन में एक कैफ़े में घुसकर गोलियां चलाईं जिसमें 23 लोगों की मौत हो गई थी. हमलावर ने ख़ुदकुशी कर ली थी.
  • 2009 में माज निदाल हसन ने टेक्सास के फ़ोर्ट हूड में सैनिक कैंप पर फ़ायरिंग की थी जिसमें 13 लोगों की मौत हो गई थी.
  • 2009 में जिवर्ली वॉन्ग ने न्यूयॉर्क में प्रवासी केंद्र में लोगों पर गोलीबारी की, इस हमले में 13 लोग मारे गए थे. हमलावर ने ख़ुद अपनी जान ले ली थी.
  • 1999 में कॉलोरेडो के लिटलटन में एरिक हैरिस और डिलन क्लेबोल्ड ने अपने साथी छात्रों और एक शिक्षक पर हाईस्कूल में हमला किया था. इस घटना में 13 लोगों की मौत हो गई थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार