'लगा हम गोलियों के बीच खड़े हैं'

  • 13 जून 2016
अमरीका इमेज कॉपीरइट Reuters

अमरीका के ऑरलैंडो में समलैंगिकों के एक क्लब में फ़ायरिंग के चश्मदीदों ने अपने अनुभव बताए.

इस हमले में 50 से ज़्यादा लोगों की मौत हो गई है और कई लोग घायल हुए हैं.

हमले के चश्मदीद क्रिस्टोफ़र हैनसेन ने बताया कि "वो लम्हा ऐसा था जैसे हम गोलियों के बीच खड़े हों और बस गोलियों की ही आवाज़ सुनाई पड़ रही हो. किसी को कुछ समझ नहीं आ रहा था. मैंने लोगों को ज़मीन पर ख़ून में लथपथ देखा और लोगों की चीख़ सुनी. फिर तो खलबली मच गई."

जैकी स्मिथ ने समाचार एजेंसी एपी को बताया कि उनके दो दोस्तों को गोली लग गई.

उन्होंने बताया, ''उसके पास ऑटोमैटिक राइफ़ल थी तो किसी के बचने की उम्मीद नहीं थी, लेकिन मैंने बाहर निकलने की कोशिश की.''

इमेज कॉपीरइट TWITTER

ट्विटर पर @गोएमिली ने लिखा है कि गोलीबारी के वक्त वो और तीन अन्य लोग ड्रेसिंग रूम में छुप हुए हैं. बाद में उन्होंने ट्वीट किया कि वो क्लब से बाहर आ गए हैं, बाद में उन्होंने ये ट्वीट हटा दिए.

हमले के वक्त क्लब के बाहर मौजूद फ़ैट्रियाना ईवान्स ने समाचार एजेंसी एपी को बताया कि लग रहा था कि जैसे पटाखे फूट रहे हों और बाद में सब बिखर गए.

इमेज कॉपीरइट AP

एक और चश्मदीद जोन अलामो ने कहा, " 20, 40, 50 बार गोली चलाने की आवाज़ सुनाई दी और संगीत थम गया.''

चश्मदीद एंथनी टोर्स ने फ़ेसबुक पर बताया कि हमले से ठीक पहले वो अपने दोस्तों के साथ क्लब से निकलने की सोच रहे थे.

उन्होंने लिखा है, "पल्स ऑरलैंडो में गोलियां चलाई गई हैं, जैसे ही हमने गोलियां चलने की आवाज़ सुनी हम वहां से निकल आए. लोग चिल्ला रहे हैं, कई लोगों की मौत हुई है....

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार