इफ़्तार से पहले 'खाना खाने' पर हिंदू की पिटाई

  • 12 जून 2016
पाकिस्तान वोट पेज का स्क्रीनशॉट इमेज कॉपीरइट Other

पाकिस्तानी प्रांत सिंध के घोटकी ज़िले में इफ़्तार से पहले खाना खाने के कारण एक हिंदू बुज़ुर्ग को पीटने वाले पुलिसवाले को गिरफ़्तार कर लिया गया है.

बुज़ुर्ग की तस्वीरें सोशल मीडिया पर साझा किए जाने के बाद पुलिस हरकत में आई.

वहीं कुछ मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक़ 80 वर्षीय गोकुल दास इफ़्तार से पहले खाने की चीज़ें बेच रहे थे.

पूर्व प्रधानमंत्री बेनज़ीर भुट्टो की बेटी बख़्तावर ज़रदारी ने ट्वीट किया, "घोटकी में एक पुलिसवाले ने इफ़्तार से पहले खाना खाने पर एक हिंदू बुज़ुर्ग को पीटा. पुलिसवाले को गिरफ़्तार कर लिया गया है."

गिरफ़्तार पुलिसवाले का नाम अली हसन है. उसके ख़िलाफ़ पीड़ित के पोते की शिकायत पर मामला दर्ज किया गया है.

पाकिस्तान वोट नाम के फ़ेसबुक पन्ने ने घटना की जानकारी देते हुए लिखा था, "घोटकी के चाचा गोकुल दास को इफ़्तार से पहले अपने घर के बाहर बैठकर चावल खाने पर एक पुलिसवाले ने पीटा. ये असहिष्णुता आजकल सूफ़ियों की सरज़मीन पर फैली है. रमज़ान का एहतराम लेकिन इंसान का कोई एहतराम नहीं."

इमेज कॉपीरइट Other

इस पोस्ट में आगे लिखा गया, "अगर एक बुज़ुर्ग हिंदू के चावल खाने से आपका ईमान ख़तरे में पड़ गया तो लानत है आप पर और आपके ईमान पर."

इस पोस्ट पर टिप्पणी में असमा तालिब ने लिखा कि पुलिस को शर्म आनी चाहिए.

हसन अंजुम ने लिखा, "हमारी मीडिया बड़ी ख़ुशी से हमें बताती है कि भारत में बीफ़ खाने पर मुसलमानों को मारा गया या पीटा गया. लेकिन कोई इसे कवर नहीं कर रहा है. क्यों? पहले क्यों न हम अपना घर ठीक करें."

इस बुज़ुर्ग को पीटे जाने की तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो गईं और #Justice4GokalDas पाकिस्तान में ट्रेंड्स में भी आ गया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)