ज़िम्बाब्वेः हफ़्तों से घायल हाथी, ज़िंदा बचा

  • 19 जून 2016
इमेज कॉपीरइट AWARE TRUST ZIMBABWE

ज़िम्बाब्वे में कई हफ़्तों से बंदूक़ की गोली से घायल घूम रहे हाथी को बचा लिया गया है. जब वह पशु चिकित्सकों को मिला तो उसे सिर में गोली मौजूद थी.

माना जा रहा है कि संदिग्ध शिकारियों ने हाथी को तीन या छह हफ़्ते पहले गोली मारी थी.

अवेयर ट्रस्ट नाम के संरक्षण समूह ने हाथी का इलाज किया. समूह के पशुचिकित्सकों को हाथी माना पूल्स नेशनल पार्क में मिला.

माना पूल्स पहले से शिकारियों के निशाने पर रहा है. ये शिकारी बेशक़ीमती हाथी दांत के लिए हाथियों को मारते हैं.

डॉक्टर लिसा मराबिनी ने बीबीसी को बताया कि टीम ने पहले हाथी को शांत किया, फिर उसका एक्स-रे लिया गया. घांवों को साफ़ करने के बाद तय किया गया कि गोली को माथे में रहने देना ही ठीक है.

इमेज कॉपीरइट AWARE TRUST ZIMBABWE
Image caption माना जा रहा है कि प्रीटी ब्यॉय नाम का ये हाथी गोली लगने के बाद पार्क में आया.

लिसा के अनुसार हाथी की उम्र लगभग 25 साल होगी और उसे संभवतः आगे और इलाज की ज़रूरत पड़ सकती है.

उन्होंने बताया, "लगता है उसे पार्क के बाहर गोली मारी गई. वह जान बचाने के लिए पार्क में दौड़ा आया." पार्क के नज़दीक ही शिकार क्षेत्र है.

लीसा बताती हैं कि प्रीटी ब्यॉय नाम का यह हाथी पार्क में पशुचकित्सकों के पास आकर रुका. उसने किसी तरह की आक्रामकता नहीं दिखाई.

इमेज कॉपीरइट AWARE TRUST ZIMBABWE
Image caption गोली खोजने के लिए हाथी के सिर को मेटल डिटेक्टर से स्कैन किया गया.

वे यह भी कहती हैं कि यदि गोली उसके माथे पर कुछ सेंटीमीटर और नीचे लगती तो वो मस्तिष्क में चली जाती.

इस साल के शुरू में माना पूल के भीतर वन्यजीवन रेंजरों ने इटली से आए एक पिता और उनके बच्चे को शिकारी समझ कर गोली मार दी थी. वे लोग अवैध शिकार विरोधी गश्त पर थें.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार