फ़लूजा पर मानवीय आपदा का ख़तरा

  • 19 जून 2016
इमेज कॉपीरइट Reuters

इराक़़ी सेना के फ़लूजा शहर पर क़ब्ज़े के बाद भारी संख्या में नागरिकों के पलायन से मानवीय आपदा का ख़तरा पैदा हो गया है.

संयुक्त राष्ट्र संघ के सहायता कार्यकर्ताओं ने ये चेतावनी जारी की है.

फलूजा को इस्लामिक स्टेट यानी आईएस के क़ब्ज़े से छुड़ाने के लिए इराक़ की सरकार ने चार हफ़्तों तक सैन्य अभियान चलाया था.

संयुक्त राष्ट्र संघ के अनुसार इस संघर्ष के बाद क़रीब 80,000 लोग फ़लूजा छोड़ कर चले गए.

संस्था के अनुसार अभी अतिरिक्त 25,000 नागरिकों के भी पलायन करने की आशंका है.

इमेज कॉपीरइट AP

सहायता कार्यकर्ताओं को शहर से बाहर बने शिविरों में रह रहे लोगों तक खाना, पानी और दवाइयां पहुंचाने में काफ़ी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है. ये शिविर लोगों से ठसाठस भरे हुए हैं.

नार्वे रिफ़्यूजी काउंसिल (एनआरसी) के नासर मुफलाही का कहना है, "फलुजा से भारी संख्या में लोगों के पलायन के कारण उनकी ज़रूरतों को पूरा करने में हम पूरी तरह विफल साबित हो रहे हैं."

इमेज कॉपीरइट AFP

वे कहते हैं, "हम इराक़ की सरकार से विनती करते हैं कि वे आने वाले मानवीय आपदा को संभालने की ज़िम्मेदारी लें."

इमेज कॉपीरइट PATRICK BAZ GETTY

सेना के फ़लूजा शहर को अपने अधिकार में लेने के बावजूद अभी भी शहर के कुछ हिस्सों में संघर्ष जारी है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार