किसके लिए उत्तर कोरिया सबसे महफ़ूज़ जगह?

  • 23 जून 2016
उत्तर कोरिया पक्षी इमेज कॉपीरइट Adrian Riegen

उत्तर कोरिया का पर्यावरण कई ऐसे प्रवासी पक्षियों को पूरी तरह से विलुप्त होने से बचा रहा है जो कभी भरपूर मात्रा में पाए जाते थे.

भले ही इस देश में विदेशियों के आने पर रोक हो, लेकिन एवियन, पूर्वी एशियाई, ऑस्ट्रेलेशियन फ्लाइवे के रास्ते कुछ मेहमानों के आने पर कोई रोक नहीं है.

पांच करोड़ पक्षियां, सारस से लेकर सॉन्ग बर्ड, साल में दो बार इस फ्लाइवे के रास्ते उत्तर कोरिया आते हैं.

इनमें से 80 लाख या तो तटीय पक्षियां हैं या तो वेडर्स हैं.

और सैकड़ों ऐसी पक्षियां हैं जो उत्तर कोरिया के पश्चिमी तट, येल्लो सागर पर उनका एक मात्र रुकने का ठिकाना है.

इमेज कॉपीरइट Adrian Riegen

बार-टेल्ड गॉडविट पक्षियां, ज्वार के बाद समुद्र के तट पर फैली मिट्टी से कीड़े और घोंघे खाते हैं.

वहीं विलुप्त होने के कगार पर पहुंची गौरेया पक्षी इनमें से छोटे कीड़े ढूंढकर खाती हैं.

इमेज कॉपीरइट Adrian Riegen

इन तस्वीरों को खींचा है न्यूज़ीलैंड बडर्सस के एक ग्रुप ने जो उत्तर कोरियाई सरकार की इजाज़त से यहां पहुंचे थे.

अपने उच्च तक़नीक़ वाले दूरबीनों और कैमरों के साथ इन लोगों ने पक्षियों की गिनती की जो अपने ऐतिहासिक यात्रा पर दक्षिण से उत्तरी हेमिस्फियर के ऊपर पहुंचे थे.

इमेज कॉपीरइट Adrian Riegen

कीवी बडर्सस, न्यूज़़ीलैंड के एक संरक्षण एनडीओ से जुड़े हैं जिसका नाम है 'पुकोरोकोरो मिरांडा नैच्यूरलिस्ट ट्रस्ट'.

इनका कहना है कि जैसे-जैसे इन पक्षियों का निवास स्थान घटता जा रहा है, ये उन जगहों का रुख कर रहे हैं जो उनके रहने के लिए बिल्कुल मुफीद है.

ऐसे में उत्तर कोरिया उनका पसंदीदा जगह बनता जा रहा है.

इमेज कॉपीरइट Adrian Riegen

इन कीवी बडर्सस ने उत्तर कोरिया के पश्चिमी तट, मुंडॉक काउंटी में 10 दिन बिताए.

इन लोगों ने ना सिर्फ़ उन जगहों का दौरा किया जहां ये पक्षियां भोजन करते हैं, लेकिन उन सॉल्ट वर्क्स और धान के खेतों का भी दौरा किया जहां ये पक्षियां आराम करती हैं.

इमेज कॉपीरइट Adrian Riegen

कीवी बडर्सस ने दूरबीन के ज़रिए स्थानीय निवासियों को तटीय पक्षियां दिखाईं. इनमें से तो कुछ ऐसे पक्षी भी थे जो न्यूज़ीलैंड से ही यहां आए थे.

इमेज कॉपीरइट Adrian Riegen

चीन और दक्षिण कोरिया की तुलना में उत्तर कोरिया में ज्यादा विकास कार्य नहीं हुआ है जिससे देश की ज्यादातर मडफ्लैट्स सही सलामत हैं.

संरक्षणवादी मानते हैं कि नदी को दूषित करने वाली फैक्ट्रियां कम होने, और खेतों से कम उर्वरकों और कीटनाशकों के नदी में मिलने से पक्षियों के लिए अच्छा है.

यहां दूर तक मडफ्लैट्स दिखाई देते हैं जो सीप, समुद्री कीड़े और कड़े खोल वाले जानवरों से भरपूर होते हैं. ये तटीय पक्षियों के लिए अच्छा आहार होता है.

इमेज कॉपीरइट Adrian Riegen

यात्रा के दौरान न्यूज़ीलैंड बडर्सस का कहना था कि उन्होंने कई ऐसे नए इलाकों को देखा जो कई पक्षियों के लिए अंतरराष्ट्रीय महत्व के हैं, जैसे बार-टेल्ड गॉडविट, यूरोशियन कर्रल्यू और बुरी तरह से विलुप्त होने के कगार पर पहुंच चुके इस्टर्न कर्रल्यू.

इमेज कॉपीरइट Adrian Riegen

तटीय पक्षियां करीब एक महीने वसंत और करीब तीन महीने शरद ऋृतु के मौसम में यहां रहती हैं और कीचड़ में मिलने वाले कीड़ों को खाती हैं.

लेकिन बार-टेल्ड गॉडविट की एक ख़ास प्रजाति उत्तर की तरफ उड़ते हुए केवल उत्तर कोरिया और येल्लो सी के आसपास ही रुकती हैं.

शरद ऋृतु में ये पक्षी एक बार में 8 से 9 दिनों में 12 हज़ार किलोमीटर की यात्रा पूरी करते हैं.

दुनिया में कोई भी ऐसा पक्षी नहीं है जो इतनी लंबी दूरी बिना रुके पूरी करता हो.

इमेज कॉपीरइट Adrian Riegen

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार