अमरीकी सदन में डेमोक्रेटिक सांसदों का धरना

  • 23 जून 2016
डेमोक्रेट सांसद इमेज कॉपीरइट Max Matza

अमरीका में बंदूकों की बिक्री पर नियंत्रण के मुद्दे पर डेमोक्रेटिक पार्टी के क़रीब सौ सांसद अमरीकी प्रतिनिधि सभा में धरने पर बैठे हुए हैं.

इन सांसदों की मांग है कि बंदूक ख़रीदने वालों की पृष्ठभूमि की व्यापक जाँच की जाए और संदिग्ध चरमपंथियों के लिए बंदूकों की बिक्री पूरी तरह बंद की जाए.

वो चाहते हैं कि प्रतिनिधि सभा का सेशन जारी रहे. जब उनका विरोध प्रदर्शन 11 घंटे तक जारी रहा तो सदन के अध्यक्ष और रिपब्लिकन नेता पॉल रेयान ने इसे पब्लिसिटी स्टंट बताया है.

इसी महीने फ़्लोरिडा के ऑरलैंडो में समलैंगिकों के एक क्लब में हुई गोलीबारी में 49 लोगों की मौत हो गई थी.

राष्ट्रपति बराक ओबामा समेत कई सांसद अमरीका में बंदूक ख़रीद के लिए कठोर क़ानून की बात कर रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट

ये सीनेटर रिपब्लिकन पार्टी के प्रस्ताव का समर्थन कर रहे डेमोक्रेटिक सांसद हैरी रीड के साथ समझौते के लिए भी ज़ोर दे रहे हैं.

रीड का कहना है कि वो रिपब्लिकन सांसद सुसान कोलिंस के नए प्रस्ताव का समर्थन करते हैं जिसके तहत उन लोगों को बंदूक बेचने पर प्रतिबंध लगाया जाएगा जिनके नाम आतंकवाद निगरानी सूची में हैं.

रीड ने एक बयान में कहा, "भले ही यह एक छोटा क़दम है. लेकिन ये आगे बढ़ने की दिशा में एक क़दम तो ज़रूर है."

इमेज कॉपीरइट Reuters

अमरीकी कांग्रेस में इस समय रिपब्लिकन पार्टी का बहुमत है.

रिपब्लिकन पार्टी ने सदन की कार्रवाई रोकने की मांग कर दी है. इस वजह से कैमरे बंद कर दिए गए हैं.

लेकिन धरने पर बैठे सांसद अपनी बात लोगों तक पहुँचाने के लिए ऑनलाइन आ गए हैं और सदन के भीतर से तस्वीरें ट्वीट कर रहे हैं.

वहीं एक सांसद पेरीस्कोप ऐप के ज़रिए लाइव वीडियो भी साझा कर रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट Reuters

धरने का नेतृत्व जॉन लुइस कर रहे हैं, जो 60 के दशक में हुए नागरिक अधिकार आंदोलन के नेता रहे हैं.

ऑरलैंडो शूटिंग के बाद बंदूक क़ानूनों को लेकर चार प्रस्ताव संसद में गिर चुके हैं.

लेकिन अब दोनों पार्टियों के समर्थन से लाया जा रहा प्रस्ताव गुरुवार को सदन में पेश होगा.

इमेज कॉपीरइट Reuters

वहीं राष्ट्रपति बराक ओबामा ने ट्विटर पर जॉन लुइस का 'बंदूक हिंसा के ख़िलाफ़ नेतृत्व करने के लिए' धन्यवाद किया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार