मोदी-जिनपिंग भेंट पर चीन का कोई आश्वासन नहीं

  • 23 जून 2016
इमेज कॉपीरइट pib

भारत ने चीन से कहा है कि वो न्यूक्लियर सप्लायर्स ग्रुप की उसकी सदस्यता पर 'न्यायपूर्ण' और 'निष्पक्ष' रवैया अख़्तियार करे.

भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने कहा है कि भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चीनी राष्ट्रपति शि जिनपिंग से मुलाक़ात में कहा कि चीन को इस मामले में निष्पक्ष रवैया अपनाने की ज़रूरत है.

दोनों नेताओं की बैठक गुरुवार को ताशकंद में हुई.

दक्षिण कोरिया के सियोल में शुक्रवार से एनएसजी देशों की बैठक हो रही है जिसमें भारत को समूह में शामिल किए जाने की बात पर ग़ौर किया जाएगा.

अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने नरेंद्र मोदी की हाल की अमरीका यात्रा में भारत की सदस्यता को अपनी मंज़ूरी दे दी थी.

इमेज कॉपीरइट NSG

चीन उन राष्ट्रों में से है जो एनएसजी में भारत को शामिल किए जाने का विरोध कर रहा है.

वो पाकिस्तान को भी इस ग्रुप का सदस्य बनाए जाने के पक्ष में है.

विकास स्वरूप से जब पूछा गया कि मोदी के आग्रह पर चीनी राष्ट्रपति की क्या प्रतिक्रिया रही तो उन्होनें कहा कि ये एक मुश्किल भरा सौदा है और फ़िलहाल वो इससे ज़्यादा कुछ नहीं कहना चाहेंगे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार