पहले कहा ईयू से बाहर, अब ब्रितानी रहे पछता

  • 25 जून 2016
इमेज कॉपीरइट EPA

ब्रिटेन में 10 लाख से अधिक लोगों ने एक याचिका पर हस्ताक्षर कर यूरोपीय संघ के साथ रहने या न रहने पर फिर से जनमतसंग्रह करवाने की मांग की है.

इनका कहना है कि कुल मतदान का प्रतिशत 75 था जिसमें से मात्र 52 फ़ीसद ने संघ से अलग होने पर हामी भरी थी इसलिए इस आधार पर फ़ैसला लिया जाना सही नहीं है.

एक समय इतने लोग याचिका पर एक साथ हस्ताक्षर करने की कोशिश कर रहे थे कि ये वेबसाइट क्रैश कर गया.

कुछ लोगों ने जिन्होंने संघ से अलग होने का पक्ष में मत दिया था अब पछता रहे हैं और कह रहे हैं कि उन्हें उम्मीद नहीं थी कि वो जीत जाएंगे.

इमेज कॉपीरइट Getty

अफ़सोस ज़ाहिर करने का सिलसिला कुछ इस तरह चल पड़ा है कि सोशल मीडिया पर रिग्रेक्सिट ट्रेंड करने लगा है.

लंदन में भी एक ऑनलाइन याचिका शुरू हुई जिसमें लंदन को 'स्वतंत्र राष्ट्र' घोषित करने का आह्वान किया गया है. अब तक हज़ारों लोग इस याचिका को अपना समर्थन दे चुके हैं.

इस बीच स्कॉटिश नेशनल पार्टी की नेता निकोला स्टरगियोन का कहना है कि स्कॉटलैंड में दोबारा जनमत संग्रह करवाने के लिए आवश्यक क़ानून तैयार किया जाएगा.

इमेज कॉपीरइट AFP

वे यूरोपीय संघ से बाहर निकलने का ब्रिटेन पर क्या असर होगा इसकी चर्चा के लिए हुई बैठक के बाद बोल रही थीं.

स्कॉटलैंड ने ईयू में रहने के पक्ष में भारी मतदान किया था. निकोला का कहना है कि कोई भी उन्हें ईयू छोड़ने के लिए बाध्य नहीं कर सकता.

उन्होंने कहा कि यूरोपीय संघ से रिश्ता बरक़रार रहे इसे सुनिश्चित करने के लिए उनकी सरकार यूरोपीय संघ से तुरंत एक वार्ता शुरू करने वाली है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार