होटलों में अब कुत्ते-बिल्लियां भी हैं मेहमान

  • 26 जून 2016
पेट फ्रेंडली होटल इमेज कॉपीरइट Red Carnation Hotels

विएना के इस होटल में कुत्ते बिना अपने मालिक के साथ भी ओपेरा में जा सकते हैं.

कुत्तों के 'कल्चरल नाइट आउट' का इंतज़ाम पांच सितारा होटल, 'पार्क हयात विएना' कराता है.

ये होटल आने वाले मेहमानों को उनके कुत्तों या बिल्लियों के साथ रहने की इजाज़त देता है.

उनका उद्देश्य होटल को जितना हो सके 'पेट फ्रेंडली' बनाना है यानी जानवरों के योग्य बनाना.

इमेज कॉपीरइट Park Hyatt Vienna

विएना के इस होटल में अगर कोई मेहमान चाहता है कि वो अकेले कमरे में रहे लेकिन उसका कुत्ता होटल रूम में अकेला ना रहे तो स्टाफ कुत्ते का ख़्याल रखता है.

कुत्तों को घुमाने ले जाने के साथ-साथ होटल कर्मचारी इन जानवरों को थिएटर भी ले जाने की व्यवस्था कर सकता है.

होटल के जेनरल मैनेजर मो कहते हैं, "अगर कोई पालतू जानवर को अकेले ओपेरा ले जाना हो तो टिकट की व्यवस्था हम कर देंगे, अगर ओपेरा इसकी अनुमति दे."

कुत्ते के साथ आए मेहमानों ने एक बार होटल से उनके कुत्ते के लिए विशेष वाहन के इंतज़ाम की फरमाइश की थी.

इमेज कॉपीरइट Red Carnation Hotels

डेकर के मुताबिक, "हमने एक बार एक कुत्ते को लिमोसिन गाड़ी से छोड़ा था क्योंकि उसके मालिक कहीं और गए थे और अचानक उन्हें लगा कि उनके कुत्ते को उनके पास होना चाहिए. हमारे लिए आसमान सीमा है."

पार्क हयात विएना, जितना जानवरों की ज़रूरतों को पूरा करने वाले होटल भले ही ना हों, लेकिन ये इस बात की ओर ज़रूरत संकेत करता है कि हाल के सालों में कई होटल लोगों को उनके पालतू जानवरों के साथ आने देता है.

वेबसाइट, होटल डॉट कॉम के मुताबिक, "हमारे पास पेट फ्रेंडली होटलों की मांग काफी बढ़ी है और साथ ही मेहमानों के पालतू जानवरों के साथ सफ़र करने की भी मांग बढ़ी है.

इमेज कॉपीरइट Red Carnation Hotels

"साल दर साल मांग बढ़ रहे हैं. दुनियाभर के कई होटल ना सिर्फ़ पालतू जानवरों के साथ रहने की इजाज़त देता है बल्कि अपनी इस विशेषता का विज्ञापन भी करता है."

होटल डॉट कॉम के मुताबिक उनकी सूचि में शामिल दुनियाभर के 3 लाख़ 25 हज़ार होटलों में से एक चौथाई होटल लोगों को उनके पालतू जानवरों के साथ आने की इजाज़त देते हैं.

ज्यादातर 'पेट फ्रेंडली' होटलों में मेहमानों को अपने पालतू जानवरों के साथ आने के लिए एक प्रारंभिक शुल्क अदा करना होता है.

इमेज कॉपीरइट Red Carnation Hotels

उदाहरण के तौर पर पार्क हयात विएना का "वेरी इम्पॉर्टेंट डॉग" प्रोग्राम की कीमत 35 यूरो है. खाना और दूसरी सेवाएं जैसे कुत्ते को घुमाना या ओपेरा ले जाने के लिए अलग से खर्चा देना होता है.

मध्य लंदन के माइल्सस्टोन होटल के पास अपना पालतू पशु दरबान है.

इस भूमिका को अदा करने वाली जॉर्जिया वुड कहती हैं, "होटल वो हर चीज़ करता है जिससे इन जानवरों का यहां रहना मेहमानों के जितना ही आरामदायक बन जाता है."

इमेज कॉपीरइट

वो जोड़ती हैं, "आगमन से पहले ही हम मेहमानों को एक 'पेट फ्रेंडली फॉर्म' भेजते हैं, जिसमें कुत्ते की नस्ल, वो कितना बड़ा है, ऐसा कोई चीज़ जिसे उनका कुत्ता खाना पसंद करता है, इन जानकारियों को भरना होता है."

"जब हमारे पास ये जानकारी आ जाती है तो हम मेहमान के आने से पहले कमरे को उसी तर्ज़ पर संवार सकते हैं, कुत्ते के बिस्तर को सेट कर सकते हैं."

इसके साथ ही माइल्स्टोन के पास कुत्तों और बिल्लियों के लिए व्यापक मेन्यू भी है, जिसे रूम सर्विस के तहत 24 घंटे कमरे में मंगाया जा सकता है.

वुड के मुताबिक औसतन होटल एक हफ्ते में तीन या चार पालतू जानवरों की मेज़बानी करता है. ज्यादातर ये बिल्लियां या कुत्ते होते हैं, लेकिन कभी-कभी कोई मेहमान दूसरे जानवर भी लाता है जैसे तोता या खरगोश.

इमेज कॉपीरइट Rainer Gregor Eckharter

अगर कोई मेहमान पालतू पशु के साथ आता है तो उन्हें इस बात का ख़्याल रखना पड़ेगा कि उसका व्यवहार सही हो क्योंकि माइल्स्टोन, जो पुराने फर्नीचरों से भरा है किसी भी क्षति के लिए जमा रकम से करीब 93 हज़ार रुपये काट लेता है.

मध्य लंदन के चेस्टरफील्ड मेफेयर होटल की मुख्य हाउसकीपर क्रिस्टीन फुलटॉन कहती हैं कि जो होटल पालतू जानवरों को आने देते हैं वो घर जैसा अहसास कराते हैं.

"जो होटलकर्मी किसी कारण से घर पर जानवर नहीं पाल सकते वो होटल में कुछ वक्त के लिए ही सही पालतू जानवरों के साथ वक्त बिता पाते हैं जबकि उनके मालिक लंदन में आनंद कर रहे होते हैं."

इमेज कॉपीरइट

विएना में 'पेट फ्रेंडली' ब्रिस्टल होटल में जेनरल मैनेजर सिमोन डियूलिस अपने कुत्ते ब्रिक्स को हर रोज़ काम पर ले जाती हैं.

वो कहती हैं होटलों को ना केवल पालतू जानवरों को अपने यहां रहने की इजाज़त देनी चाहिए, बल्कि सही मायने में लगना भी चाहिए कि वो उनका स्वागत करते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार