तुर्की में राष्ट्रीय शोक का दिन, हमले में 41 की मौत

  • 29 जून 2016
तुर्की इमेज कॉपीरइट AFP GETTY

इस्तांबुल एयरपोर्ट पर हुए धमाके में अब तक 41 लोगों की मौत हो चुकी है. जांचकर्ता अब वीडियो फुटेज़ की जांच कर रहे हैं और प्रत्यक्षदर्शियों के बयान ले रहे हैं ताकि धमाके के बारे में और जानकारी मिल सके.

तुर्की में बुधवार का दिन राष्ट्रीय शोक का दिन घोषित कर दिया गया है.

मरने वाले 40 लोगों में 13 विदेशी नागरिक हैं.

अधिकारियों ने बताया है कि इस घटना में 239 लोग घायल हुए हैं जिसमें से 41 की हालत चिंताजनक है.

तुर्की के कई शहरों में पिछले कुछ महीनों में कई धमाके हुए हैं. इन धमाकों के लिए इस्लामिक स्टेट और कुर्दिश चरमपंथियों को ज़िम्मेदार बताया जाता रहा है.

तुर्की के अधिकारियों का कहना है कि मंगलवार को हुए धमाकों के पीछे इस्लामिक स्टेट का हाथ है. इस्लामिक स्टेट की तरफ से अभी तक कोई बयान नहीं आया है.

इस्तांबुल एयरपोर्ट पर मंगलवार देर रात तीन आत्मघाती हमलावरों ने पहले बंदूक़ों से आक्रमण किया, फिर ख़ुद को बम से उड़ा लिया.

देखें वीडियो

प्रधानमंत्री बिनाली युलदरम ने कहा है कि हमले में कम से कम 36 लोगों की मौत हो गई है और काफ़ी लोग घायल हुए हैं.

धमाके के समय की तस्वीरें

प्रधानमंत्री ने ये भी कहा है कि मारे गए लोगों में कुछ विदेशी नागरिक भी हो सकते हैं.

इमेज कॉपीरइट Reuters

युलदरम ने बताया कि तीन हमलावरों ने पहले फ़ायरिंग शुरू की फिर बाद में ख़ुद को उड़ा लिया.

( पढ़ें : धमाके के बारे में बता रहे हैं वहां मौज़ूद प्रत्यक्षदर्शी विल कॉर्टर)

प्रधानमंत्री का कहना था कि ऐसे संकेत हैं कि ये हमला इस्लामिक स्टेट से जुड़े किसी समूह ने किया है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

हमले के बाद से हवाई अड्डे पर विमानों की आवाजाही रोक दी गई है. लोगों से कहा गया है कि वे अतातुर्क हवाई अड्डे से दूर रहें. घायलों को टैक्सियों और एंबुलेंस के ज़रिए अस्पताल पहुंचाया गया.

इमेज कॉपीरइट Reuters

सरकार और कुर्द चरमपंथियों के बीच बीते साल संघर्ष विराम ख़त्म होने के बाद तुर्की में हाल के महीनों में कई बम धमाके हुए हैं. इनके लिए कुर्द अलगाववादियों या इस्लामिक स्टेट को ज़िम्मेदार माना गया है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

अमरीकी विदेश विभाग ने हाल ही में अपने नागरिकों के लिए चेतावनी जारी की थी कि वे तुर्की जाएं तो सावधानी बरतें.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार