बंद हो रहे हैं भारत में ईरानी कैफ़े

  • 30 जून 2016
इमेज कॉपीरइट Kinjal Pandya

ईरानी चाय, बन मस्का कैरामेल कस्टर्ड, पफ़ और कटलेट के लिए विख्यात ईरानी कैफ़े बीते कुछ सालों से बंद होती जा रहे हैं. मुंबई जैसे बड़े शहरों की विशेषता रह चुके ये कैफे कई हिंदी फ़िल्मों में भी नज़र आए हैं. 1988 की तेज़ाब से लेकर 2013 में आई फ़िल्म लंच बॉक्स में इन्हें देिखाया गया था.

अब जो ईरानी होटल चल रहे हैं वो ज़्यादातर दक्षिण मुंबई के इलाके में दिखते हैं. कयानी एंड कंपनी, याज़दानी, मेरवान एंड कंपनी, ब्रिटैनिया एंड कंपनी और ससानियन उनमें जाने माने होटल हैं.

ईरानी कैफे की कुछ अलग ख़ासियतें हैं. जैसे कि लकड़ी की कुर्सियां, चौकोर टेबल क्लॉथ, पेंडुलम वाली घड़ियां, पुराने पंखे लेकिन सबसे अधिक जो लोगों को भाता है वो है वेटर या मैनेजर का दोस्ती भरा व्यवहार. मुंबई जैसी भागदौड़ वाले शहर में ये मिलना मुश्किल है.

इमेज कॉपीरइट Kinjal Pandya

आधुनिक जीवनशैली और लोगों में बाहर खाने पर खर्च करने की बढ़ती क्षमता में लोगों ने ईरानी कैफ़े का साथ छोड़ दिया है. महंगाई और मॉडर्न होटलों से ईरानी कैफ़े मुक़ाबला नहीं कर पातीं. आज ईरानी कैफ़े में आने वाले वही लोग हैं जो इनके इतिहास के महत्व को समझते हैं या फिर दिल से इनके खाने और चाय को पसंद करते हैं. इन ग्राहकों में बुज़ुर्ग ही नहीं बल्कि नौजवान लोग भी हैं.

ईरानी कैफ़े में अकसर जाने वाली प्रुथा कदम का कहना है,''मुझे मॉडर्न होटलों में जाना पसंद नहीं वहां लोग अपनी ठाठ दिखाते हैं, ईरानी कैफ़े में आने का मज़ा अलग है. यहां की सर्विस और खाना जिस भाव में मिलता है वैसा शायद ही कहीं पर मिले, इसके साथ ही ये होटल ऐतिहासिक भी हैं.’’

इमेज कॉपीरइट kinjal Pandya

लालू भतीजा तो अपने स्कूल और कॉलेज के दिनों से ससानियन एंड कंपनी बोउलांगेरी में अपने दोस्तों के साथ आते रहे हैं. वह कहते हैं,’’हमारे ज़माने में ये होटल सारे मुंबई में, हर इलाक़े में हुआ करती थीं, आज कुछ ही गिने चुने ईरानी कैफ़े बची हैं, ये बहुत दुख की बात है.’’

इमेज कॉपीरइट Kinjal Pandya

आज भले ही ये ईरानी कैफ़े महंगाई और मॉडर्न होटल के मुक़ाबले से जूझ रही हों लेकिन इन्हीं के बीच ब्रिटैनिया एंड कंपनी जबर्दस्त कारोबार कर रही है. इनका बेरी पुलाव बहुत ही विख्यात है. दिन में कुछ समय ऐसे हैं कि अगर यहां पर जाओ तो अंदर जाने के लिए एक घंटा इंतज़ार करना पड़ता है.

इमेज कॉपीरइट Kinjal Pandya

मुंबई के माहिम इलाक़े में एक नया ईरानी कैफे खुला है, जिसका नाम है कैफ़े ईरानी चाय. पिछले पचास साल में पहले मुंबई में कोई ईरानी कैफ़े खुला है. इसके मालिक पारसी होटल के आकर्षण और संस्कृति को बनाए रखना चाहते हैं.

इन लोगों की इस पहल से पता चलता है कि इस परिस्थिति में भी लोग होटल चलाते रहने की उम्मीद बनाए हुए हैं. बस ज़रूरत है तो ऐसे कारोबारियों की जो ईरानी कैफ़े को फिर से लोकप्रिय बनाएं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए