इस बार हज यात्रियों की कलाई पर होंगे ब्रेसलेट

  • 1 जुलाई 2016
इमेज कॉपीरइट Getty

सऊदी अरब ने इस साल मक्का जाने वाले हज यात्रियों के लिए एक इलेक्ट्रॉनिक ब्रेसलेट तैयार किया है. इसमें हज यात्रा और श्रद्धालुओं से जुड़ी कई अहम जानकारियां होगीं.

पिछले साल हज यात्रा के दौरान मक्का के पास हुई भगदड़ में 750 से भी अधिक लोगों की मौत हो गई थी, जबकि 900 लोग घायल हुए थे.

सऊदी प्रेस एजेंसी के अनुसार इलेक्ट्रॉनिक ब्रेसलेट में श्रद्धालुओं की निजी और मेडिकल जानकारियां दर्ज की जाएंगी ताकि अधिकारी यात्रियों की पहचान कर सकें और उन्हें जरूरी मदद मुहैया करा सकें.

इसके अलावा हज यात्रियों की सुरक्षा के लिए 1000 नए निगरानी कैमरे भी लगाए गए हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP

आईडी ब्रेसलेट में पासपोर्ट नंबर और घर का पता जैसी कुछ बेहद ख़ास जानकारियां होगीं. इसके साथ ही यह हज यात्रियों को नमाज़ का समय भी बताएगा. इसके अलावा यात्रियों की मदद के लिए बहुभाषिया हेल्प डेस्क होगा ताकि अरबी नहीं बोलने वाले यात्रियों का मार्ग दर्शन किया जा सके.

इस इलेक्ट्रॉनिक ब्रेसलेट पर पानी का असर नहीं होगा और यह जीपीएस सिस्टम से भी जुड़ा हुआ होगा. इसमें जो भी सूचनाएं होंगी वे स्मार्टफोन के जरिए मंत्रालय, सुरक्षा और सेवा निकायों के कर्मचारियों की पहुंच में होंगी.

इमेज कॉपीरइट AP

सऊदी अख़बार के अनुसार सऊदी अरब में मक्का के भव्य मस्जिद में कई कैमरे लगाए गए हैं. इन्हें कंट्रोल रूम से जोड़ा जाएगा. यहां स्पेशल फ़ोर्स होगी जो अगस्त में शुरू होने वाली हज यात्रा से जुड़ी गतिविधियों पर निगरानी रख़ेंगे.

2015 पिछले 25 सालों में हज यात्रा के लिहाज से सबसे बुरा साल रहे.

मक्का में पिछले साल हुई भगदड़ में काफ़ी संख़्या में हज यात्रियों की मौत के बाद सऊदी शाह सलमान ने हज यात्रा के सुरक्षा प्रबंधों की समीक्षा के आदेश दिए थे.

इमेज कॉपीरइट Getty

ये भगदड़ उस समय हुई थी जब मीना में शैतान को पत्थर मारने की रस्म अदा की जा रही थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार