हथिनी को लगाया गया नक़ली पैर

  • 2 जुलाई 2016
इमेज कॉपीरइट Reuters

मोशा केवल सात महीने की थी जब म्यांमार और थाईलैंड की सीमा पर बारुदी सूरंग फटने से उसने अपना एक पैर गंवा दिया.

इमेज कॉपीरइट Reuters

लंपांग के अभयारण्य के कार्यकर्ताओं का कहना है कि पैर नहीं होने के कारण मोशा को कई तरह की गंभीर स्वास्थ समस्याएं होने लगी थी.

इमेज कॉपीरइट Reuters

यह मोशा का नौंवा पैर है. सभी पैरों को इंजीनियर्स की एक टीम ने बनाया है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

मोशा की दोस्त मोटोला ने भी उसी दुर्घटना में अपना पैर खो दिया था. उसे भी नक़ली पैर लगाए गए.

इमेज कॉपीरइट Reuters

मोटोला 1999 में बारुद से तब घायल हो गई जब सीमा पर उससे सामान ढ़ोने का काम लिया जा रहा था.

इमेज कॉपीरइट Reuters

पशु चिकित्सकों का कहना है कि दुर्भाग्य से मोटोला गंभीर चोट के कारण मोशा की तरह नकली पैरों को ग्रहण नहीं कर पाई.

इमेज कॉपीरइट Reuters

मोटोला के नक़ली पैर को उसके शरीर में फिट कर दिया गया है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

एशियन फ्रेंड्स फाउंडेशन के कार्यकर्ताओं का कहना है कि जंगलों में काम करते समय बारुदी सुरंग से मोशा की तरह कई हाथी घायल हो जाते हैं.

इमेज कॉपीरइट Reuters

आज दोनों हथिनी बहुत खुश है. दोनों अपने पैरों पर खड़ी होने में सक्षम है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार