सड़कों से कामयाबी के शिखर तक

  • 2 जुलाई 2016
लिता कैबेलुत की पेंटिग्स इमेज कॉपीरइट EDDY WENTING

स्पेन की सबसे सफ़ल कलाकारों में से एक लिता कैबेलुत की पेंटिग्स आज भले ही ऊंचे दामों में बिकती हों लेकिन कभी उनका बचपन सड़कों पर गुज़रा था.

लिता कहती हैं, "दुनियाभर के हज़ारों बच्चों की तरह ही मेरा भी बचपन सड़कों पर गुज़रा."

बार्सिलोना की सड़कों पर दूसरे बेघर बच्चों के साथ वो घूमती थीं और खुले आसमान के नीचे सोती थीं.

"हम एक दूसरे की देखभाल करते, हम वो सबकुछ करते जो करना हमें पसंद था. हम झरनों से सिक्के निकालते, नाविकों से ज़िप्पो लाइटर मांगते और पर्यटकों के बटुए चुराते थे. हम रेस्तरां में जाते और जब हमें खाना परोसा जाता तो कहते थे कि हमारे पिता बाथरूम में हैं, फिर जल्दी से खाना खाकर वहां से भाग जाते थे."

कैबेलुत का जन्म 1961 में उत्तर-पूर्वी स्पेन के एरागन में एक गांव में हुआ था.

इमेज कॉपीरइट EDDY WENTING

बहुत कम उम्र में ही वो अपनी मां के साथ बार्सिलोना रहने चली गईं.

यहां उनकी मां एक वेश्यालय चलाने लगी और कैबेलुत अपनी ग्रैंडमदर के साथ रहने चली गईं.

हालांकि उनके मुताबिक़ वो ज्यादातर समय सड़कों पर ही गुज़ारती थीं.

"मैं वैश्याओं के लिए काम करती थी. वो मुझे पैसे देते थे सिगरेट, सैंडविच, कॉन्डम, गहने खरीदने के लिए पैसे और मैं बाकी बचे पैसों को रख लेती थी."

लिता कहती हैं, "कला मेरे अंदर शुरू से ही थी क्योंकि कला हमारे इर्द-गिर्द ही होती है, लेकिन ज़िन्दगी की जद्दोजहद में वो औपचारिक तौर पर सामने नहीं आई."

वो कभी स्कूल नहीं गईं और उनके ज़ेहन में ये बात कभी भी नहीं आई कि एक दिन वो स्पेन की सबसे सफ़ल कलाकारों में से होंगी.

इमेज कॉपीरइट ALAMY

लिता कहती हैं, "मेरा ख़्वाब डांसर बनना, उड़ना, दौड़ना, अपने आसपास के सभी बच्चों से ज्यादा ताक़तवर होना था."

आर्ट प्राइज़ के 2014-15 सालाना रिपोर्ट के मुताबिक़ स्पैनिश कलाकारों में कैबेलुत से ज्यादा पेंटिग्स केवल मिक्वेल बार्सेलो की बिकती है.

उनकी कोई भी पेंटिंग आज एक लाख़ डॉलर या उससे भी ज्यादा क़ीमत में बिक जाती है.

एक्टर ह्यू जैकमैन, एक्ट्रेस हेली बेरी और शेफ़ गॉर्डन रामसे के पास भी लिता की बनाई पेंटिग्स हैं.

कैबेलुत जब 10 वर्ष की थीं तो उनके ग्रैंडमदर की मौत हो गई. उसके बाद उन्हें अनाथ आश्रम जाना पड़ा.

जब वो 12 साल की थीं तो एक परिवार ने उन्हें गोद ले लिया. इसी परिवार के कारण उनका रुझान कला की तरफ गया.

इमेज कॉपीरइट LITA CABELLUT

महज़ 13 साल की उम्र में कैबेलुत का परिवार उन्हें मैड्रिड के प्राडो संग्रहालय ले गया जहां उन्होंने गोया की पेंटिग दिखाई जो 1820 से 1823 के बीच पेंट किया गया था.

वो कहती हैं कि उन्हें इस पेंटिंग में वही आंखों का भाव दिखा जो बचपन में उन्होंने सड़कों पर देखे थे.

"इस पेंटिंग में पागलपन, उम्मीद, भयानक क्षणों के अंश दिखे जो भाव किसी व्यक्ति में उनकी सुरक्षा चले जाने के बाद दिखता है. जब मैंने पहली बार इस पेंटिंग को देखा तो मुझे लगा कि मैं इसकी प्रत्यक्षदर्शी हूं."

इन पेंटिंग्स का उनपर ऐसा प्रभाव पड़ा कि उन्होंने गोया की एक पेंटिंग की नक़ल तक करने की कोशिश की.

अब 13 साल की उम्र में वो पहली बार स्कूल भी जाने लगी थीं. लेकिन ये उनके लिए आसान नहीं था.

इमेज कॉपीरइट COCO NUMERO 4

लिता एमस्टर्डम के गेरित रीतवेल्ड अकादमी में कला की पढ़ाई करने गईं.

लिता कैबेलुत के मुताबिक़ उनपर तीन लोगों का गहरा प्रभाव पड़ा जिनमें स्पेन के गोया, फ्लोरेंटाइन पुनर्जागरण मूर्तिकार डोनातेलो और जर्मन संगीतकार बाक शामिल थे.

ग्रैजुएशन के बाद वो नीदरलैंड्स में रहने लगीं और अब उनका हेग में अपना खुद का स्टूडियो है. लेकिन उनके लिए रास्ता आसान नहीं था.

वो कहती हैं, "मैंने बच्चों के वेश्यावृत्ति पर एक चौंकाने वाली श्रंखला पेंट की थी और मेरे गैलेरिस्ट ने कहा, 'नहीं लिता, तुम ऐसा नहीं कर सकती हो. लोगों को ये नहीं चाहिए. ज्यादा परियां पेंट करो, ये परियां खूब बिकती हैं,' मैं ना कहा और मैंने गैलरी खो दी."

"मैं ऐसी तस्वीरें बनाती हूं जिसमें आपको चमड़े के नीचे की असल खूबसूरती ढूंढनी पड़ती है."

इमेज कॉपीरइट LITA CABELLUT

लिता कहती हैं, "एक कलाकार को अपने मन की करनी चाहिए. आज परी हो सकती है, तो कल राक्षस और भूत हो सकते हैं. अगर आप अपने कलात्मक सोच के साथ नहीं चलते तो ये केवल एक व्यवसाय बनकर रह जाएगा. और तब ये ख़तरनाक़ होगा."

आज कैबेलुत को पहचाना जाता है उनके चित्रों के लिए, जिसमें लोकप्रिय व्यक्तियों जैसे कोको चैनल और चार्ली चैपलिन की तस्वीरें भी हैं और कुछ ऐसी भी तस्वीरें हैं जिन्हें कुछ लोग बदसूरत भी कह सकते हैं.

भले ही कैबेलुत की एकल प्रदर्शनियां लंदन, दुबई और सियोल में लग चुकी हैं, लेकिन उनके अपने ही देश स्पेन में उन्हें पहचान मिलनी अभी बाकी है.

उनकी दो प्रदर्शनियां 2017 में लगने वाली हैं जिससे उम्मीद की जा रही है कि इससे उनकी पहचान बढ़ेगी.

इमेज कॉपीरइट MAARTEN SCHETS

कैबेलुत कहती हैं कि उन्हें त्यागने के लिए वो अपनी मां को माफ़ कर चुकी हैं और एक बार उनसे मिलने भी गई थीं.

अपने काम के बारे में जब वो कहती हैं तो अपने बचपने के दिनों को याद करती हैं जो उन्होंने बार्सिलोना की सड़कों पर बिताए थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार