भारतीय जोड़े के एवरेस्ट फ़तह करने के दावे की जांच

  • 5 जुलाई 2016
इमेज कॉपीरइट

नेपाल सरकार भारतीय पर्वतारोही जोड़े के माउंट एवरेस्ट फ़तह करने के दावे की जांच कर रही है.

दिनेश और तारकेश्वरी रठौड़ ने पत्रकारों को पिछले साल जून में बताया था कि वो 23 मई को माउंट एवरेस्ट की 8850 मीटर की ऊंचाई पर चढ़े थे.

कुछ पर्वतारोहियों ने इस जोड़े पर माउंट एवरेस्ट पर चढ़ने की नकली तस्वीरें दिखाने के आरोप लगाए हैं. उनका कहना है कि ये तस्वीरें डिजिटल मदद से तैयार की गई हैं.

इमेज कॉपीरइट MAKALU ADVENTURE

दिनेश और तारकेश्वरी दोनों ही पुणे में पुलिस कांस्टेबल के तौर पर कार्यरत हैं. पुणे की पुलिस भी इन दावों की जांच कर रही है.

यदि इस जोड़े पर लगे आरोप सही साबित होते हैं तो इन्हें मिला प्रमाण पत्र रद्द किया जाएगा और उन पर धोखाधड़ी का मामला चलेगा.

दिनेश और तारकेश्वरी दोनों ने ही अपने ऊपर लगे आरोपों को खारिज किया है. उनके साथ चढ़ाई करने वाले गाइड्स ने भी इन आरोपों को बेबुनियाद बताया है.

नेपाल पर्यटन विभाग के प्रमुख सुदर्शन प्रसाद ढकाल का कहना है कि विभाग ने अभियान के आयोजकों और एवरेस्ट बेस कैंप के सरकारी अधिकारियों से बात करने के बाद ही इस जोड़े को प्रमाण पत्र दिया है.

इमेज कॉपीरइट

उन्होंने समाचार एजेंसी एएफ़पी से कहा कि प्रमाण पत्र देने की प्रक्रिया के तहत पर्वतारोहियों की ली गई तस्वीरों पर ही भरोसा किया जाता है.

उन्होंने कहा कि नकली तस्वीर पकड़ना "बहुत मुश्किल" है. बीबीसी ने जब इस जोड़े से संपर्क किया तो तारकेश्वरी रठौड़ ने ज़ोर देकर कहा कि उन्होंने और उनके पति ने 'एवरेस्ट की चढ़ाई' की है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार