इराक़ युद्ध पर टोनी ब्लेयर ने मांगी माफी

  • 7 जुलाई 2016
ब्रिटेन के पूर्व प्रधानमंत्री टोनी ब्लेयर. इमेज कॉपीरइट AFP

ब्रिटेन के पूर्व प्रधानमंत्री टोनी ब्लेयर ने 2003 के इराक़ युद्ध में मारे गए लोगों के परिवार से माफी मांगी है. हालांकि उन्होंने यह स्वीकार किया कि वो परिवार उन्हें न कभी भूलेंगे और न माफ़ करेंगे.

उन्होंने इस बात को स्वीकार किया कि खुफिया सूचनाएं ग़लत थीं और युद्ध के बाद की योजना खराब थी.

ब्लेयर ने कहा कि उन्होंने जो किया, वह उस समय के लिए ठीक था. उन्होंने कहा कि उनका अब भी यही मानना है कि इराक़ के लिए सद्दाम हुसैन का न होना ही ठीक है.

उन्होंने कहा कि अगर उन्हें फिर ऐसा फ़ैसला लेने का मौक़ा मिला तो वो उसी तरह का फ़ैसला लेंगे.

इमेज कॉपीरइट Getty

ब्लेयर ने कहा कि सेना भेजने का फ़ैसला उनके दस साल के प्रधानमंत्री काल का सबसे दुखद और महत्वपूर्ण फ़ैसला था.

उन्होंने कहा कि वो बिना किसी बहाने के इस फ़ैसले की पूरी ज़िम्मेदारी लेते हैं. उन्होंन उम्मीद जताई कि भविष्य के नेता इन ग़लतियों से सबक लेंगे.

इराक़ युद्ध में शामिल होने के फ़ैसले की जांच के लिए गठित चिलकॉट जांच समिति अपनी रिपोर्ट में कहा है कि सरकार ने सद्दाम हुसैन की तरफ से दिख रहे ख़तरे को बढ़ा-चढ़ाकर पेश किया और अप्रशिक्षित सैनिकों को युद्ध में भेजा दिया गया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार