दक्षिणी सूडान में हिंसा में दर्जनों की मौत

  • 9 जुलाई 2016
दक्षिणी सूडान इमेज कॉपीरइट GETTY

दक्षिण सूडान की राजधानी जूबा में हुई हिंसक झड़पों में दर्जनों लोग मारे गए हैं.

सैन्य और चिकित्सीय सूत्रों और स्थानीय मीडिया के मुताबिक़ शुक्रवार शाम हुई गोलीबारी में कई लोग मारे गए हैं.

राष्ट्रपति सलवा कीर और उनके प्रतिद्वंदी रहे उप राष्ट्रपति रीक मख़ार के बीच मुलाक़ात के दौरान राष्ट्रपति भवन के आसपास गोलीबारी हुई है.

कितने लोग मारे गए हैं ये अभी स्पष्ट नहीं है. कुछ रिपोर्टों के मुताबिक़ कम से कम सौ लोग मारे गए हैं जबकि कुछ के मुताबिक़ ये संख्या 150 तक हो सकती है.

20 महीने से जारी गृहयुद्ध को रोकने के लिए 2015 में हुआ शांति समझौता हिंसा रोकने के लिए नाकाफ़ी साबित हुआ है.

हिंसा के बाद से राजधानी जूबा में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गई है.

दक्षिण सूडान दुनिया का सबसे युवा राष्ट्र है और यह सूडान से आज़ादी की पांचवी वर्षगांठ मना रहा है.

शुक्रवार की हिंसा सलवा कीर और रीक मख़ार के सुरक्षाकर्मियों की बीच हुई गोलीबारी से शुरू हुई.

दोनों नेताओं ने शुक्रवार को राष्ट्रपति भवन में मुलाक़ात की.

आधे घंटे की इस गोलीबारी के बाद शहर के कई इलाक़ों में हिंसा और बमबारी शुरू हो गई.

शनिवार को एक स्थानीय पत्रकार ने बीबीसी को बताया है कि राष्ट्रपति भवन में फंसे हुए पत्रकारों ने परिसर के बाहर कम से कम सौ शव देखे हैं.

एक डॉक्टर ने समाचार एजेंसी एसोसिएटेड प्रेस को बताया है कि बहुत से शव लाए गए हैं जबकि रीक मख़ार गुट के एक सैन्य प्रवक्ता ने समाचार एजेंसी रॉयटर्स को बताया है कि 115 लोग मारे गए हैं.

दोनों ही नेताओं ने शुक्रवार को हुई हिंसा को दुर्भाग्यपूर्ण बताया है.

दक्षिणी सूडान की आर्थिक हालत इतनी ख़राब है कि स्वतंत्रता दिवस पर कोई सरकारी आयोजन नहीं हो रहा है.

रिपोर्टों के मुताबिक़ शहर में शनिवार को कुछ हद तक शांति रही है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार