दक्षिणी सूडान में संघर्ष विराम का एलान

  • 12 जुलाई 2016
सालवा कीर और रीक माचार इमेज कॉपीरइट AFP

दक्षिण सूडान की राजधानी जूबा में कई दिन चली हिंसक झड़पों के बाद राष्ट्रपति सल्वा कीर और उपराष्ट्रपति रीक माचार ने संघर्ष विराम का एलान कर दिया है.

दोनों नेताओं के समर्थक सैनिकों के बीच गुरुवार से शुरू हुई गोलीबारी में 200 से ज़्यादा लोग मारे गए हैं.

गोलीबारी से शुरू हुई हिंसा भारी तोपों, टैंकों और हेलिकॉप्टरों के इस्तेमाल तक पहुँच गई थी.

संयुक्त राष्ट्र की सुरक्षा परिषद ने भी दोनों पक्षों से लड़ाई रोकने का आह्वान किया था.

इमेज कॉपीरइट Reuters

ताज़ा लड़ाई से लाखों नागरिकों की सुरक्षा पर ख़तरा पैदा हो गया था.

एक सर्वसम्मत घोषणा में सुरक्षा परिषद ने हिंसा की कड़े शब्दों में आलोचना की है.

साथ ही दक्षिण सूडान में शांतिबल बढ़ाने पर भी सहमति बनी है.

इमेज कॉपीरइट AFP

इससे पहले जूबा के नागरिकों ने बीबीसी को बताया है कि वो घरों के भीतर ही रह रहे हैं और सड़कों पर गोलीबारी की आवाज़ें सुनी जा सकती हैं.

रिपोर्टों के मुताबिक जूबा की सड़कों पर टैंक देखे गए हैं और एयरपोर्ट के पास हिंसक झड़पें हुई हैं.

सोमवार दोपहर सेना के एक प्रवक्ता ने बीबीसी को बताया कि राष्ट्रपति सालवा कीर के समर्थक सैनिकों को अपने बैरकों में लौटनों के लिए कहा गया है.

इमेज कॉपीरइट AP

प्रवक्ता ने कहा कि जो सैनिक आदेश का पालन नहीं करेंगे और लूटमार करते पाए जाएंगे, उन्हें गिरफ़्तार किया जाएगा.

जूबा में संयुक्त राष्ट्र की एक प्रवक्ता शांतल परसॉद ने बताया है कि लड़ाई के बाद बड़ी तादाद में नागरिक संयुक्त राष्ट्र के परिसरों में शरण मांग रहे हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)