अमरीकी व्हिसलब्लोअर की आत्महत्या की कोशिश

  • 12 जुलाई 2016
इमेज कॉपीरइट Reuters

अमरीकी सेना में गड़बड़ियों की जानकारी देने वाले चेल्सी मैनिंग ने पिछले हफ़्ते जेल में आत्महत्या करने की कोशिश की थी.

चेल्सी के वकील ने इस ख़बर की पुष्टि की है. चेल्सी ट्रांसजेंडर हैं और उन्हें 35 साल की सज़ा सुनाई गई है. वो पुरूषों वाले जेल में बंद हैं.

उनके वकीलों का आरोप है कि अमरीकी सेना ने ये जानकारी देकर कि चेल्सी अस्पताल में हैं, उनकी निजता का हनन किया है.

सेना ने चेल्सी को अस्पताल ले जाने की ख़बर दी थी लेकिन कारण नहीं बताए थे जिसके बाद मीडिया में रिपोर्टें आई कि चेल्सी ने आत्महत्या की कोशिश की थी.

इमेज कॉपीरइट AFP

सोमवार को चेल्सी के ट्विटर अकाउंट से ट्वीट आया, ''मैं ठीक हूं और ख़ुश हूं कि ज़िंदा हूं. मुझे प्यार करने के लिए सभी का शुक्रिया. ये समय भी निकल जाएगा.''

इस अकाउंट से ट्वीट आम तौर पर चेल्सी के प्रतिनिधि करते हैं लेकिन सामान्य तौर पर चेल्सी फोन से ये ट्वीट बताती हैं.

चेल्सी ने कई वर्षों तक इराक़ में खुफ़िया विश्लेषक का काम किया है. पूर्व में चेल्सी का नाम ब्रैडली थी और इसी नाम से उन्हें सज़ा हुई थी. आगे चलकर उन्होंने घोषणा की कि वो एक महिला के तौर पर जीना चाहती हैं और उनका नाम चेल्सी है

पिछले साल उन्हें हॉर्मोन थेरेपी की अनुमति मिली क्योंकि उन्हें लिंग से जुड़ी बीमारी है यानि जन्म के बाद उनका जो लिंग निर्धारण हुआ और वो जो महसूस करती हैं उसमें अंतर था.

अपनी सज़ा खत्म होने तक चेल्सी अमरीकी सेना में सैनिक ही मानी जाती रहेंगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार