'पाक यूएन के मंच का ग़लत उपयोग न करे'

  • 14 जुलाई 2016
फाइल फोटो इमेज कॉपीरइट Reuters

संयुक्त राष्ट्र में भारतीय दूत सैयद अकबरउद्दीन ने मानवाधिकारों के विषय पर विशेष सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि पाकिस्तान संयुक्त राष्ट्र के मंच का ग]लत इस्तेमाल करने की कोशिश कर रहा है.

संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तानी दूत मलीहा लोधी ने महासभा द्वारा आयोजित मानवाधिकार सम्मेलन में बोलते हुए कश्मीर के हालात का ज़िक्र किया.

मलीहा लोधी ने भारत पर आरोप लगाते हुए कहा कि भारतीय फौज कश्मीरियों को कुचल रही है.

इमेज कॉपीरइट AFP

पाकिस्तानी दूत मलीहा लोधी ने कहा, "हाल ही में ग़ैर कानूनी ढंग से एक कश्मीरी नेता को गोली मार दी गई, औऱ दर्जनों अन्य बेगुनाह कश्मीरियों को मार डाला गया. जम्मू-कश्मीर में भारत की काबिज़ सेना शक्ति के बल पर कश्मीरियों की स्वतंत्रता के अधिकार को कुचल रही है."

पाकिस्तानी दूत के बाद मंच संभालते हुए भारतीय दूत सैयद अकबरउद्दीन ने कहा, "अफ़सोस है कि आज संयुक्त राष्ट्र के मंच का गलत उपयोग करने की कोशिश की गई. यह कोशिश पाकिस्तान ने की. पाकिस्तान जो दूसरों की ज़मीन पर नज़र गड़ाए रहता है, और इसके लिए आतंकवाद को नीति के रूप में इस्तेमाल करता है. एक देश जो आतंकियों की हरकतें अपनाता है औऱ संयुक्त राष्ट्र द्वारा आतंकी घोषित किए गए लोगों को पनाह देता है."

अकबरउद्दीन ने आगे कहा, "और पाकिस्तान इन सारे कामों को मानवाधिकारों के समर्थन का नाम देता है. लेकिन अंतरराष्ट्रीय समुदाय अब पाकिस्तान की चालों को समझता है. और ऐसी कोशिशों का संयुक्त राष्ट्र पर कोई असर नहीं होता है."

भारतीय दूत ने कहा कि भारत एक विविध, बहुलवादी और सहिष्णु समाज वाला देश है जहां क़ानून का बोलबाला, जनतंत्र और मानवाधिकार अहम बुनियादी सिद्धांत हैं.

कश्मीरी चरमपंथी गुट हिज़बुल मुजाहिद्दीन के कमांडर बुरहान वानी की शुक्रवार को एक मुठभेड़ में मौत के बाद भारत प्रशासित जम्मू-कश्मीर में व्यापक विरोध प्रदर्शन शुरू हुए हैं.

इन विरोध प्रदर्शनों के नतीजे में अब तक 36 लोग मारे गए हैं और 1300 से अधिक ज़ख़्मी भी हुए हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार