बांग्लादेश में चरमपंथ के ख़िलाफ़ 'सरकारी ख़ुतबा'

  • 15 जुलाई 2016
इमेज कॉपीरइट Focus Bangla

बांग्लादेश में धार्मिक मामलों से जुड़ी एक सरकारी संस्था ने इस्लाम के नाम चरमपंथ को बढ़ावा देने के ख़िलाफ एक ख़ुतबा तैयार किया है.

इस्लामिक फाउंडेशन ने देश की सभी मस्जिदों से इसे जुमे की नमाज़ के दौरान पढ़ने को कहा.

फाउंडेशन ने उम्मीद जताई कि सभी इमाम इसका उपयोग करेंगे या इससे प्रेरणा लेंगे.

ये अभी साफ़ नहीं है कि कितनी मस्जिदों ने इस ख़ुतबे का उपयोग किया. बांग्लादेश में हाल के दिनों में कई बड़े चरमपंथी हमले हुए हैं.

इस ख़ुतबे में पैगंबर मोहम्मद की कही बातें भी शामिल हैं.

इसके मुताबिक़, "किसी इंसान को मारना सबसे बड़ा गुनाह है, हर मां-बाप को चाहिए वह अपने बच्चों ख्याल रखें ताकि कोई उनको बरगलाए ना.'

इमेज कॉपीरइट site

फाउंडेशन के प्रमुख शमीम मोहम्मद अफज़ल के अनुसार वह देश में चरमपंथ के प्रभाव को रोकना चाहते हैं. इसीलिए उन्होंने इसे देश की लगभग तीन लाख मस्जिदों तक इस लिखित संदेश को भेजा है.

इमेज कॉपीरइट AP

अफज़ल के मुताबिक, "इस संदेश को मानना या नहीं मानना इमामों की इच्छा पर है. यह निर्देश नहीं संदेश है. पर हमें उम्मीद है कि लोग इससे प्रेरणा लेंगे. हमारा साफ संदेश है कि इस्लाम में चरमपंथ के लिए कोई जगह नहीं है."

कई इस्लामिक पार्टियां इस खुतबे की आलोचना कर रही हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार