क्या रोका जा सकता था नीस में हमला ?

  • 16 जुलाई 2016
नीस इमेज कॉपीरइट EPA

फ्रांस के नीस में भीड़ पर ट्रक हमले को लेकर फ्रांस की सरकार निशाने पर आ गई है.

कई नेताओं ने सरकार की आलोचना करते हुए कहा है कि ये हमला रोका जा सकता था.

फ्रांस के प्रधानमंत्री मानुअल वॉल्स ने कहा है कि सुरक्षा को लेकर कोई नाकामी नहीं हुई है.

इमेज कॉपीरइट EPA

नीस में बास्तील डे पर समुद्र तट के पास आतिश बाज़ी का आनंद लेने जमा हुई भीड़ पर ट्रक दौड़ा दिया गया था जिसमें 84 लोगों की मौत हो गई है और कई लोग घायल हैं.

लेकिन राष्ट्पति की दौड़ में शामिल और पूर्व प्रधानमंत्री एलां झ्यूप ने कहा कि अगर ज़रूरी क़दम उठाए गए होते तो हमले से बचा जा सकता था.

रिविएरा के क्षेत्रीय प्रमुख क्रिस्टियन एस्त्रोसी ने सवाल उठाया है कि क्या आतिशबाज़ी के आयोजन को लेकर पर्याप्त सुरक्षा व्यवस्था की गई थी.

इमेज कॉपीरइट AFP

पिछले हफ़्ते एक संसदीय जांच में फ्रांस में पिछले साल हुए दो चरमपंथी हमलों के मामले में खुफ़िया एजेंसियों की आलोचना की थी.

पिछले साल नवंबर में फ्रांस की राजधानी पेरिस में कई जगहों पर चरमपंथी हमलावरों ने गोलियां चलाईं थीं और आत्मघाती हमले किए थे जिसमें 130 लोगों की मौत हुई थी.

इसके बाद फ्रांस में आपातकाल लागू किया गया था. हाल ही में फ्रांस में यूरोकप के दौरान चरमपंथी हमले की चेतावनी दी गई थी.

इमेज कॉपीरइट

रिपोर्टों के मुताबिक नीस के दौरे पर गए राष्ट्रपति ओलांद का लोगों ने विरोध किया.

अमरीका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा है, ''नीस हमला हम सब पर हमला है.'' उन्होंने कहा कि चरमपंथ से देश की रक्षा के लिए अमरीका फ्रांस के साथ खड़ा है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार