'शरिया वालों के अमरीका आने पर पाबंदी लगे'

  • 15 जुलाई 2016
नीस पर हमला इमेज कॉपीरइट AP

फ़्रांस के नीस में हुए चरमपंथी हमले के बाद अमरीका में रिपब्लिकन पार्टी के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार डोनल्ड ट्रंप ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है.

इस हमले में कम से कम 84 लोग मारे गए हैं और कई गंभीर रूप से घायल हैं.

हमले के बाद एक ट्वीट में डोनल्ड ट्रंप ने कहा, "एक और डरावना हमला, इस बार फ्रांस के नीस में. कई मारे गए और घायल हैं. हम कब सीखेंगे. हालात ख़राब होते जा रहे हैं."

बीबीसी संवाददाता ब्रजेश उपाध्याय के मुताबिक़ डोनल्ड ट्रंप ने कहा है कि राष्ट्रपति बनने के बाद वो 'आतंकवादी देशों' के लोगों को अमरीका में घुसने नहीं देंगे और जाँच प्रक्रिया बेहद कड़ी कर देंगे.

डोनल्ड ट्रंप इससे पहले अमरीका में मुसलमानों के प्रवेश पर पाबंदी की बात कर चुके हैं.

इमेज कॉपीरइट

वहीं रिपब्लिकन पार्टी के ही एक और वरिष्ठ नेता और पूर्व स्पीकर न्यूट गिंगरिच ने कहा है कि शरिया में यक़ीन रखने वालों पर अमरीका में पाबंदी लगे.

न्यूट गिंगरिच रिपब्लिकन पार्टी की ओर से उपराष्ट्रपति पद के लिए शार्टलिस्ट उम्मीदवारों में शामिल हैं.

उन्होंने फॉक्स न्यूज़ से कहा, अमरीका को लोगों के 'मुस्लिम बैकग्राउंड' की जांच करनी चाहिए और अगर ये लोग 'शरिया में यक़ीन' रखने वाले पाए गए तो उन्हें अमरीका से बाहर कर देना चाहिए.

नीस के हमलावर की पुलिस कार्रवाई में मौत हो गई है. अभी तक अधिकारियों ने उसकी पहचान सार्वजनिक नहीं की है.

लेकिन स्थानीय मीडिया की रिपोर्टों के मुताबिक़ हमलावर एक ट्यूनीशियाई मूला का 31 वर्षीय फ्रांसीसी नागरिक है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहाँ क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार