9/11 हमले की ख़ुफ़िया रिपोर्ट जारी

  • 16 जुलाई 2016
इमेज कॉपीरइट AFP

अमरीकी कांग्रेस ने 11 सितंबर के हमले से जुड़ी एक रिपोर्ट के उन 28 पन्नों को सार्वजनिक कर दिया है जिसमें हमलावरों और सऊदी अरब के बीच संबंधों पर टिप्पणी की गई थी.

शुक्रवार को जारी इस गुप्त दस्तावेज़ के अनुसार सऊदी हुकू़मत और इन हमलावरों के बीच कोई सीधा संबंध नहीं नज़र आता, लेकिन ये संभव है कि उन्हें देश के अंदर कुछ लोगों से आर्थिक मदद मिली हो.

इमेज कॉपीरइट REUTERS

इस दस्तावेज़ को सार्वजनिक किए जाने के लिए कांग्रेस और अमरीकी प्रशासन के बीच बरसों से बहस चल रही थी. हमले में मारे गए लोगों के परिजन भी इसे जारी करने के लिए ख़ासा दबाव डाल रहे थे.

ये गुप्त दस्तावेज़ 11 सितंबर के हमलों पर 2002 की कांग्रेस की साझा जांच रिपोर्ट का हिस्सा हैं.

कई अमरीकी अधिकारी इन पन्नों को जारी किए जाने के ख़िलाफ़ थे क्योंकि उनका मानना था कि इससे अमरीका और सऊदी अरब के कूटनीतिक रिश्तों पर असर पड़ेगा. लेकिन माना जा रहा है कि इन दस्तावेज़ों के जारी किए जाने के बावजूद सऊदी अरब की भूमिका पर सवाल उठते रहेंगे.

11 सितंबर के 19 हमलावरों में से 15 सऊदी नागरिक थे.

इमेज कॉपीरइट FBI

रिपोर्ट में कहा गया है, "एफ़बीआई और सीआईए के दस्तावेज़ों के अनुसार ग्यारह सितंबर के कुछ हमलावर जब अमरीका में थे तो संभवत: उनके ऐसे लोगों से ताल्लुकात थे जो सऊदी सरकार से जुड़े हुए थे."

रिपोर्ट में कहा गया है ओमर अल बयूमी नामक एक सऊदी ख़ुफ़िया अधिकारी दो हमलावरों से कैलिफ़ोर्निया के सैन डिएगो शहर में एक सार्वजनिक जगह पर मिला था.

एफ़बीआई के फ़ाइलों का हवाला देते हुए रिपोर्ट में कहा गया है कि इन हमलावरों के कैलिफ़ोर्निया पहुंचने के दो महीने के बाद इस अधिकारी का वेतन 465 डॉलर प्रति माह से बढ़कर 3,700 डॉलर प्रति माह हो गया था.

एक पन्ने में इस बात का विवरण है कि 1999 में दो हमलावर फ़ीनिक्स से वॉशिंगटन की उड़ान के दौरान विमान कर्मचारियों से विमान की तकनीकी चीज़ों के बारे में पूछताछ कर रहे थे. दोनों ही वॉशिंगटन में सऊदी दूतावास में एक पार्टी में शामिल होने जा रहे थे.

रिपोर्ट के अनुसार उनमें से एक ने दो बार कॉकपिट में घुसने की भी कोशिश की थी. विमान को इमरजेंसी लैंडिंग करनी पड़ी थी. एफ़बीआई ने इसकी जांच पड़ताल भी की लेकिन कोई मुकदमा नहीं दायर हुआ.

इन पन्नों में ये भी कहा गया है कि जांच के दौरान ये जानकारी भी हासिल हुई कि "अमरीका में मौजूद सऊदी हुकूमत के अधिकारियों के अल क़ायदा और दूसरे आतंकवादी गुटों के साथ संबंध रहे हों". लेकिन जिस आयोग ने ये रिपोर्ट लिखी उनका ये भी कहना है कि इसमें से बहुत सी जानकारी की "स्वतंत्र रूप से पुष्टि नहीं हो पाई है."

इमेज कॉपीरइट REUTERS

अमरीकी ख़ुफ़िया एजेंसियों की सर्वोच्च कमान संभालने वाली ऑफ़िस ऑफ़ दी डायरेक्टर ऑफ़ नैशनल इंटेलीजेंस (डीएनआई) का भी कहना है कि रिपोर्ट के जारी किए जाने का ये मतलब नहीं है ख़ुफ़िया एजेंसियां इसमें शामिल की गई जानकारियों से सहमत हैं.

अमरीका में सऊदी अरब के राजदूत ने कहा है कि उनका देश इन पन्नों के जारी किए जाने का स्वागत करता है.

उनका कहना था, "हम उम्मीद करते हैं कि इनके जारी होने से सऊदी अरब की भूमिका और मंशा पर जो भी सवाल थे वो दूर हो जाएंगे."

इमेज कॉपीरइट AP

व्हाइट हाउस के प्रवक्ता जॉश अरनेस्ट ने पन्नों के जारी होने से पहले ही बयान दिया कि उनमें ग्यारह सितंबर के हमलों में सऊदी अरब की भूमिका से संबंधित कोई सबूत नहीं हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार