तुर्की ने की फ़तहुल्लाह गुलेन के प्रत्यर्पण की मांग

  • 17 जुलाई 2016
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

तुर्की के राष्ट्रपति रेचप तैयप अर्दोआन ने अमरीका में रहने वाले 75 वर्षीय धर्म प्रचारक फ़तहुल्लाह गुलेन के प्रत्यर्पण की मांग की है.

तख़्तापलट की कोशिश के नाकाम होने के 24 घंटे के भीतर संसद के विशेष सत्र के बाद संसद के बाहर अर्दोआन ने अपने समर्थकों को संबोधित किया.

इमेज कॉपीरइट Reuters

इस्तांबुल के तक़सीम चौराहे पर और कई अन्य शहरों में सड़कों पर बड़ी संख्या में अर्दोआन के समर्थक जमा हुए हैं. ये लोग तख़्तापलट की कोशिश करने वालों के लिए फांसी की मांग कर रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty

तुर्की की सरकार ने गुलेन पर सरकारी तंत्र के समानांतर व्यवस्था खड़ी करने की कोशिश का आरोप लगाया है. अमरीका ने तुर्की से कहा है कि अगर उसके पास धर्म प्रचारक गुलेन के ख़िलाफ़ कोई भी सबूत हो तो वो उसके साथ साझा करे.

हालांकि फ़तहुल्लाह गुलेन ने इस तख़्तापलट में किसी भी भूमिका से इनकार किया है.

75 वर्षीय धर्म प्रचारक ने कहा कि वो तख्तापलट के षडयंत्र की कड़े शब्दों में निंदा करते हैं.

तुर्की में तख़्तापलट की कोशिश नाकाम रहने के बाद कई वरिष्ठ अधिकारियों समेत 2,839 सैनिकों को गिरफ़्तार किया गया है.

इमेज कॉपीरइट REUTERS

तुर्की के प्रधानमंत्री बिनाली यिल्दिरिम ने कहा कि तख़्तापलट की कोशिश को तुर्की के लोकतांत्रिक इतिहास में काला धब्बा करार दिया है.

उन्होंने बताया कि 161 आम लोगों की मौत हो गई है और 1,440 लोग घायल हुए हैं.

तुर्की के मीडिया के अनुसार सेना दो वरिष्ठतम जनरलों को भी गिरफ़्तार किया गया है.

सरकारी मीडिया की रिपोर्ट के मुताबिक 2,745 जजों को हटाया गया है, इनमें तुर्की की उच्चतम अदालत के जज भी शामिल हैं.

इमेज कॉपीरइट AP

इससे पहले तुर्की के राष्ट्रपति कार्यालय ने कहा है कि तख़्तापलट की नाकाम कोशिश के दौरान आम लोग समेत 265 लोग मारे गए हैं.

मारे गए लोगों में 104 वो लोग थे जो तख़्तापलट की योजना में शामिल थे.

तुर्की की संसद के विशेष सत्र में देश की चार अहम पार्टियों ने तख़्तापलट की निंदा की.

उन्होंने कहा कि उनका एकजुट रुख तुर्की में लोकतंत्र के लिए बहुत अमूल्य है.

इमेज कॉपीरइट Getty

शुक्रवार रात जब सेना के एक तबके ने तख़्तापलट की कोशिश की तो राष्ट्रीय संसद को भी टैंकों और लड़ाकू विमानों से निशाना बनाया गया था.

संसद का विशेष सत्र तख़्तापलट के दौरान हिंसा में मारे गए लोगों की याद में एक मिनट के मौन के साथ शुरू हुआ.

तुर्की के प्रधानमंत्री बिनाली यिल्दरिम ने संसद को बताया कि विद्रोही सैनिक नहीं बल्कि चरमपंथी थे.

इमेज कॉपीरइट AFP

अभी तक ये मालूम नहीं हो सका है कि तख्तापलट की कोशिशों के पीछे किसका हाथ है.

तस्वीरों में तुर्की में तख़्तापलट की कोशिश

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए