चार्ल्स डिकेंस के गढ़े शब्द

डिकेंस की जन्मशति पर डाक टिकट इमेज कॉपीरइट PA
Image caption डिकेंस के 200वें जन्म वर्ष के मौके से डाक टिकट जारी किए गए.

चार्ल्स डिकेंस को तो आप सभी जानते ही हैं. वह अंग्रेज़ी के सबसे बड़े उपन्यासकारों में से एक हैं. साल 2012 उनके जन्म का 200वां साल है इसी लिए हम लेकर आए हैं उनके ज़रिए गढ़े हुए कुछ शब्द.

आप कहीं बोर तो नहीं हो गए? यह प्रश्न मैंने सिर्फ़ इसलिए पूछा है क्योंकि 'बोरडम' शब्द को उन्हीं की उत्पत्ति माना जाता है.

इससे पहले कि हम उनके ज़रिए गढ़े गए कुछ और शब्दों का जिक्र करें चलिए कुछ रोचक बातें उनके बारे में जानते हैं.

चार्ल्स डिकेंस का जन्म सात फरवरी, 1812 को हुआ था. ऑक्सफोर्ड इंग्लिश डिक्शनरी के मुताबिक दुनिया के वह 13वें ऐसे व्यक्ति हैं जिन्हें किसी संदर्भ में हवाले के तौर पर इस्तेमाल किया जाता है और अंग्रेज़ी में वह विलियम शेक्सपियर, सर वालटर स्कॉट, जेफ़री चॉसर, जॉन मिल्टन और जॉन ड्राइडेन के बाद सबसे ज़्यादा हवाला दिए जाने वाले लोगों में आते हैं.

ऑक्सफोर्ड इंग्लिश डिक्शनरी के मुताबिक़ उन्होंने 258 नए शब्दों को पहली बार यानी सबसे पहले लिखित रूप में प्रयोग किया है. इसी प्रकार उन्होंने 1,586 शब्दों को पहली बार नए अर्थों में इस्तेमाल किया है.

उन्होंने अपने उपन्यासों के जरिए कुछ बेमिसाल किरदार अथवा पात्र भी दिए हैं. आपने कॉपरफ़ील्ड का तो नाम सुना ही होगा वह उन्ही का बेमिसाल पात्र है, इसी प्रकार पिकविक, स्क्रूज और ओलिवर ट्विस्ट भी तो उन्हीं के पात्र हैं.

इससे पहले हमने शेक्सपियर के गढ़े कुछ शब्दों को पेश किया था. हालांकि शेक्सपियर ने डिकेंस के मुक़ाबले बीस प्रतिशत ही लिखा है लेकिन उनके नाम 1700 से अधिक नए शब्द हैं जो डिकेंस के मुक़ाबले सात गुना हैं. शेक्सपियर के बारे में कहा जाता है कि उन्होंने न केवल शब्दों का ईजाद किया बल्कि उन्हें लोकप्रिय भी बनाया.

डिकेंस के गढ़े गए कुछ शब्द

इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption डिकेंस ने लगभग 26 उपन्यास लिखे और सैंकड़ो दूसरी रचनाएँ.

Boredom (बोरडम) - यह संज्ञा है और ऐसी स्थिति को कहते हैं जिसमें आदमी का दिल न लगे और दिल्चस्पी न हो. वैसे ऐसी स्थिति से आजकल लोगों का पाला ज़्यादा ही पड़ने लगा है. इसका पहली बार प्रयोग ब्लीक हाउस (Bleak House, 1852) में किया गया था.

Butterfingers (बटरफ़िंगर्स) - यह संज्ञा है और ऐसे व्यक्ति के लिए इस्तेमाल होता है जो लापरवाह, फूहड़ और अल्हड़ हो. आपने क्रिकेट में कैच छोड़ देने वाले लोगों के लिए इसका इस्तेमाल सुना होगा या जिसके हाथ से चीज़ें फिसलती हों. डिकेंस ने इसका इस्तेमाल पिकविक पेपर्स (Pickwick Papers, 1836-37) में किया है.

Sawbones (सॉबोन्स) - आप अगर गौर से देखें तो पाएंगे कि इसका हड्डी और आरे से कुछ संबंध है. हां, सही समझे इसे डॉक्टर और ख़ास तौर से सर्जन के लिए स्लैंग के तौर पर इस्तेमाल किया जाता है.

Messiness (मेसीनेस) - यह भी संज्ञा है और ऐसी स्थिति के लिए इसका प्रयोग करते हैं जो अस्त-व्यस्त हो, जहां गंदगी हो.

Fagin (फ़ेगिन) - यह भी संज्ञा है और ऐसे व्यक्ति के लिए प्रयोग होता है जो बच्चों को अपराध करना सिखाते हैं. पहली बार इसे ओलिवर ट्विस्ट (Oliver Twist, 1837) में प्रयोग किया गया है.

Flummox (फ़्लमॉक्स) - यह क्रिया है और इसका अर्थ होता है हैरान कर देना, चौंका देना, to bewilder. पहली बार इसका प्रयोग पिकविक पेपर्स (Pickwick Papers, 1836-37) में हुआ. कुछ लोगों का कहना है कि अमरीका में एक साल पहले यह शब्द किसी और जगह देखा गया है.

Gradgrind (ग्रैडग्रिंड) - यह संज्ञा है और ऐसे व्यक्ति के लिए इस्तेमाल होता है जो कड़क हो और जो भावना के बजाए सिर्फ़ तथ्य पर ज़ोर देता हो. पहली बार इसे उपन्यास हार्ड टाइम्स (Hard Times, 1854) में पाया गया.

Rampage (रैम्पेज) - यह भी संज्ञा है और इसका इस्तेमाल क्रिया के रूप में भी होता है. इसका अर्थ उधम या हिंसात्मक व्यवहार होता है या फिर उधम मचाना आवेश में डालना क्रोध करना इत्यादि. पहली बार इसका प्रयोग ग्रेट एक्स्पेक्टेशंस (Great Expectations, 1860) में हुआ है.

Red Tape (रेड टेप) - यह संज्ञा है, लेकिन किसी जूते का नाम नहीं जिसका प्रचार सलमान खान करते हैं. बल्कि यह ऐसी स्थिति को कहते हैं जहां अत्याधिक नियम कानून हो और जिसके कारण काम होना बहुत मुश्किल हो. हमारी अफसरशाही में इसे ख़ूब देखा जा सकता है. वैसे पहली बार इसका प्रयोग उपन्यास ब्लीक हाउस (Bleak House, 1852) में किया गया था.

Round the clock (राउंड द क्लॉक) - इसका अर्थ तो आप जानते ही होंगे. वैसे अब मैं थक चुका हूं और रात दिन चौबीसों घंटे घड़ी की तरह तो काम नहीं कर सकता. इसका प्रयोग पहली बार उपन्यास ब्लीक हाउस (Bleak House, 1852) में किया गया था.

चलते चलते यही कहूंगा कि अगर आपने अभी तक चार्ल्स डिकेंस का कोई उपन्यास नहीं पढ़ा है तो खोजकर एक जरूर पढ़ें.

संबंधित समाचार