Got a TV Licence?

You need one to watch live TV on any channel or device, and BBC programmes on iPlayer. It’s the law.

Find out more
I don’t have a TV Licence.

लाइव रिपोर्टिंग

रिपोर्टर- अपूर्व कृष्ण, अनंत प्रकाश और सिंधुवासिनी

time_stated_uk

  1. धन्यवाद

    बीबीसी के इस लाइव पेज से जुड़ने के लिए आपका शुक्रिया. यह लाइव पेज अब यहीं बंद हो रहा है. 11 अगस्त, बुधवार के अपडेट्स के लिए आप यहाँ क्लिक कर सकते हैं.

  2. तालिबान लड़ाके

    माना जा रहा है कि सुरक्षा कारणों से भारत ने यह फ़ैसला किया है. अमेरिकी सैनिकों की वापसी के बाद तालिबान और अफ़ग़ान सुरक्षा बलों के बीच कई जगह भीषण लड़ाई चल रही है.

    और पढ़ें
    next
  3. तालिबान

    अफ़ग़ानिस्तान की सरकार से जुड़े कई शीर्ष नेता और अधिकारी तालिबान को लेकर पाकिस्तान की भूमिका पर सवाल उठाते रहे हैं. हालाँकि पाकिस्तान इससे इनकार करता रहा है.

    और पढ़ें
    next
  4. अफ़ग़ान क्रिकेटर राशिद ख़ान की अपील - दुनिया हमें अराजकता के बीच अकेला न छोड़े

    राशिद ख़ान

    अफ़ग़ानिस्तान के क्रिकेट खिलाड़ी ऑलराउंडर राशिद ख़ान ने मंगलवार को दुनिया के नेताओं से अपील की है कि उनके देश को इस हिंसक माहौल में अकेला न छोड़ा जाए.

    ख़ान ने ट्वीट करते हुए लिखा, “प्रिय विश्व नेताओं, मेरे देश में हालात ख़राब हैं, हज़ारों बेगुनाह बच्चे, महिलाएं और लोग हर रोज़ शहीद हो रहे हैं, घर और संपत्तियां तबाह हो रही हैं. हज़ारों परिवार बेघर हो रहे हैं. हमें इस अराजकता में छोड़ कर न जाएं. अफ़ग़ानों और अफ़ग़ानिस्तान को तबाह करना बंद करें. हमें शांति चाहिए.”

    अफ़ग़ानिस्तान में स्थिति दिन ब दिन ख़राब होती जा रही है. पिछले तीन महीनों में हेलमंद, कांधार और हेरात प्रांतों में लगभग 1000 लोगों की मौत हो चुकी है.

    इसके साथ ही तालिबानी लड़ाकों ने एक बड़े भू – भाग पर कब्जा कर लिया है और लगातार राजनीतिक हत्याओं को अंजाम दे रहे हैं.

    View more on twitter

    कल ही ख़बर आई थी कि कई बच्चे गृहयुद्ध के दौरान अपनी जान गंवा रहे हैं.

    राशिद ख़ान के अलावा कई अन्य अफ़ग़ान हस्तियों ने भी पिछले कुछ दिनों में अपनी चिंताएं सोशल मीडिया के ज़रिए दुनिया के सामने रखी हैं.

    राशिद भारत में आईपीएल में खेलते हैं और काफ़ी लोकप्रिय खिलाड़ी हैं.

  5. भीषण आग और बाढ़ के बीच आईपीसीसी की ये रिपोर्ट ख़तरे की घंटी क्यों है?

    सायप्रस के जंगलों में लगी आग का एक दृश्य
    Image caption: हाल ही में सायप्रस के जंगलों में लगी आग से जुड़ी एक तस्वीर

    यूरोपीय देशों में बाढ़ से लेकर तुर्की और ग्रीस के जंगलों में भयानक आग की वजह से लोगों में दहशत का माहौल है.

    स्थानीय सरकारों के लिए अचानक होने वाले इन हादसों से निपटना मुश्किल होता जा रहा है.

    ऐसे में इंटर गवर्नमेंटल पैनल ऑन क्लाइमेट चेंज ने एक रिपोर्ट जारी की है जिसे इंसानों के लिए ख़तरे की घंटी माना जा रहा है.

    इस रिपोर्ट में बताया गया है कि ग्रीन हाउस गैसों का प्रभाव बढ़ने से तापमान के साथ - साथ आग लगने की ऐसी घटनाओं में भी बढ़ोतरी होगी.

    देखिए वीडियो.

    View more on twitter
  6. असम और मिज़ोरम के मुद्दे सुलझने में अभी वक़्त लगेगा: हिमंत बिस्वा सरमा

    हिमंत बिस्व सरमा
    Image caption: असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्व सरमा

    असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने मंगलवार को कहा है कि असम और मिज़ोरम के बीच विवादों के समाधान में अभी लंबा वक़्त लगेगा.

    उन्होंने कहा, “मिज़ोरम के साथ आपको एक लंबे दौर की शांति चाहिए. क्योंकि इस तरह के भारी आदान-प्रदान के बाद आपको जख़्म भरने के लिए कुछ वक़्त देना होता है. इसके बाद दोनों ओर से भरोसा कायम करने के लिए कुछ प्रयास करने होंगे. इसके बाद अंतिम समाधान के लिए बात होगी.”

    ”मुझे लगता है कि अब दोनों सरकारों के बीच बातचीत हो रही है और निश्चित रूप से दोनों पक्ष शांति और अमन के लिए काम करेंगी.”

    हाल ही में असम और मिज़ोरम के बीच लंबे समय से जारी सीमा विवाद ने हिंसक रूप ले लिया था.

    बीती 26 जुलाई को दोनों राज्यों की पुलिस के बीच हिंसक झड़प हो गई. इस दौरान दोनों पक्षों ने एक-दूसरे पर गोलियां चलाईं. इसमें सात लोगों की मौत हो गई और 60 लोग घायल हो गए.

    इस घटना में मारे गए लोगों में पांच असम के पुलिसकर्मी थे.

    View more on twitter
  7. Video content

    Video caption: नीरज चोपड़ा की ये छोटी सी स्पीच ‘सोने पे सुहागा’

    ओलंपिक में भारत को एथलेटिक्स का पहला गोल्ड मेडल दिलाने वाले नीरज चोपड़ा को दिल्ली में सम्मानित किया गया.

  8. टोक्यो ओलंपिक: विनेश फोगाट को अस्थाई रूप से निलंबित किया गया

    विनेश फोगाट
    Image caption: विनेश फोगाट एक इवेंट के दौरान

    भारतीय कुश्ती महासंघ ने मंगलवार को अनुशासनहीनता से जुड़े एक मामले में विनेश फोगाट को अस्थाई रूप से निलंबित कर दिया है.

    कुश्ती महासंघ ने फोगट को आगामी 16 अगस्त तक अपना पक्ष रखने को कहा है जिसके बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी.

    फोगाट को टोक्यो ओलंपिक के क्वार्टर फाइनल मुक़ाबले में बेलारूस की खिलाड़ी के हाथों हार का सामना करना पड़ा था.

    क्या है मामला?

    भारतीय पहलवान विनेश फोगाट ने हंगरी में अपने कोच वॉलर एकोस से ट्रेनिंग ली है. और उन्होंने वहीं से सीधे टोक्यो के लिए उड़ान भरी थी. इसके बाद जब वह टोक्यो पहुंची तो इस विवाद की शुरुआत हुई.

    समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़, टोक्यो में विनेश फोगाट ने खेल गाँव में रहने और दूसरे भारतीय खिलाड़ियों के साथ ट्रेनिंग करने से मना कर दिया.

    इसके साथ ही उन्होंने भारतीय दल के आधिकारिक प्रायोजक शिव नरेश की जर्सी पहनने से भी इनकार कर दिया. उन्होंने अपनी बाउट्स के दौरान नाइक के लोगो वाली ड्रेस पहनी.

    भारतीय कुश्ती महासंघ से जुड़े एक सूत्र ने पीटीआई को बताया है, “ये भारी अनुशासनहीनता है. उन्हें अस्थाई रूप से निलंबित कर दिया गया है और सभी रेसलिंग एक्टिविटीज़ से प्रतिबंधित कर दिया गया है. वह जब तक इस पर अपना पक्ष नहीं रखती हैं और भारतीय कुश्ती महासंघ इस पर अंतिम फैसला नहीं लेता है तब तक वह किसी भी राष्ट्रीय या डोमेस्टिक इवेंट में हिस्सा नहीं ले सकेंगी.

    भारतीय कुश्ती महासंघ को इंडियन ओलंपिक एसोसिएशन की ओर से आलोचना का सामना करना पड़ा था कि वे (भारतीय कुश्ती महासंघ) अपने खिलाड़ियों को नियंत्रण में क्यों नहीं रख पाते. इस मामले में इंडियन ओलंपिक एसोसिएशन ने भारतीय कुश्ती महासंघ को नोटिस जारी किया है."

    'भारतीय खिलाड़ियों से नहीं रखा कोई राब्ता'

    टोक्यो में भारतीय दल के साथ गए अधिकारियों ने पीटीआई को बताया है कि विनेश फोगाट ने वहां इस बात पर हंगामा मचा दिया कि वह भारतीय खिलाड़ियों सोनम,अंशू मलिक और सीमा बिस्ला के बगल के कमरों में नहीं रहेंगी क्योंकि ये खिलाड़ी भारत से आए हैं और वह उनसे संक्रमित हो सकती हैं.

    इस अधिकारी ने ये भी कहा कि, “वह किसी भी भारतीय पहलवान के साथ नहीं खेलीं. ऐसा लग रहा था कि जैसे वह हंगरी की टीम के साथ आई हों और उनका भारतीय दल से कोई लेना-देना नहीं है.

    एक दिन ऐसा हुआ कि विनेश फोगाट की ट्रेनिंग का शेड्यूल और भारतीय लड़कियों का शेड्यूल आपस में मैच कर गया. ऐसे में फोगाट ने उस दिन ट्रेनिंग नहीं करने का फैसला किया. ये स्वीकार्य नहीं है. वरिष्ठ खिलाड़ियों को इस तरह व्यवहार नहीं करना चाहिए.”

    इस मामले में अब तक विनेश फोगाट ने अपना पक्ष नहीं रखा है.

  9. ओबीसी सूची पर संविधान संशोधन बिल लोकसभा में पारित

    संसद

    लोकसभा ने उस संविधान संशोधन बिल को मंज़ूरी दे दी है जिसमें राज्यों को अन्य पिछड़े वर्गों (ओबीसी) की सूची ख़ुद बनाने की शक्ति बहाल की गई है.

    समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, लोकसभा में ये बिल 385 सदस्यों के वोटों से पारित हुआ और किसी सदस्य ने इसका विरोध नहीं किया.

  10. श्रीनगर में 'पत्रकार ग्रेनेड के साथ' गिरफ्तार

    श्रीनगर के लाल चौक पर खड़ा सुरक्षाकर्मी
    Image caption: श्रीनगर के लाल चौक पर खड़ा सुरक्षाकर्मी

    भारत प्रशासित कश्मीर में पुलिस ने दावा किया है कि श्रीनगर के लाल चौक से मंगलवार को एक पत्रकार को दो ग्रेनेड के साथ गिरफ्तार किया गया है.

    समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, गिरफ्तार किए गए पत्रकार की पहचान आदिल फ़ारूक़ के तौर पर हुई है जो एक स्थानीय न्यूज़ एजेंसी के साथ काम करते हैं.

    समाचार एजेंसी एएनआई ने पुलिस सूत्रों के हवाले से अपनी ख़बर में कहा है कि आदिल को इससे पहले वर्ष 2019 में गिरफ्तार किया गया था.

    View more on twitter

    जम्मू कश्मीर पुलिस के सूत्रों का हवाला देकर एएनआई ने जानकारी दी है कि ''आदिल जैश-ए-मोहम्मद के लिए काम करता था. उसका सहयोगी ज़हीर नज़र घटनास्थल से भाग गया जो हाल ही हमें जेल से बाहर आया था. उसे भी विस्फोटक से संबंधित मामले में गिरफ्तार किया गया था.''

    कश्मीर ज़ोन पुलिस ने भी इस संबंध में ट्वीट करके जानकारी दी है और कहा है कि इस सिलसिले में और भी गिरफ्तारियां हो सकती हैं, जांच-पड़ताल जारी है.

    View more on twitter
  11. दुबई की राजकुमारी लतीफ़ा को आज़ाद कराने का अभियान हुआ बंद

    शहज़ादी लतीफ़ा अपने क़ज़िन भाई मार्कस इसाब्री के साथ
    Image caption: शहज़ादी लतीफ़ा अपने क़ज़िन भाई मार्कस इसाब्री के साथ

    आइसलैंड में अपने पारिवारिक सदस्य के साथ एक तस्वीर में नज़र आने के बाद दुबई की राजकुमारी लतीफ़ा को आज़ाद करवाने के लिए चलाया जा रहा अभियान बंद कर दिया गया है.

    बीते सोमवार एक ब्रितानी महिला ने इस तस्वीर को इंस्टाग्राम पर जारी किया जिसमें ऐसा लग रहा है कि राजकुमारी लतीफ़ा अपने रिश्तेदार के साथ मौजूद हैं.

    इस साल की शुरुआत में बीबीसी ने एक वीडियो जारी किया था जिसमें राजकुमारी लतीफ़ा ने बताया था कि उन्हें उनके पिता ने बंदी बनाकर रखा है.

    इसके बाद अंतरराष्ट्रीय स्तर पर लतीफ़ा को छोड़ने की मांग उठाई गयी थी. संयुक्त राष्ट्र ने 35 वर्षीय लतीफ़ा के ज़िंदा होने के सबूत भी मांगे थे.

    लेकिन उसके बाद से लतीफ़ा की कई तस्वीरें सामने आ चुकी हैं जिन्हें सायनेड टेलर ने प्रकाशित किया है. इनमें से एक तस्वीर में वह स्वयं प्रिंसेस लतीफ़ा के साथ मैड्रिड एयरपोर्ट पर नज़र आ रही है.

    वहीं, दूसरी तस्वीरों में लतीफ़ा दुबई के एक शॉपिंग मॉल और रेस्तरां में नज़र आ रही हैं.

    हालांकि, अब तक ये स्पष्ट नहीं है कि शहज़ादी लतीफ़ा कितनी स्वतंत्र हैं क्योंकि तस्वीरें सामने आने के बाद से अब तक उन्होंने सार्वजनिक रूप से कोई बात नहीं की है.

    फ्री लतीफ़ा कैंपेन ने सोमवार को बयान जारी करके बताया है कि आइसलैंड में राजकुमारी लतीफ़ा की मुलाक़ात उनके रिश्तेदार मार्कस इसाब्री से हुई है.

    बयान में कहा गया, “इस मुलाक़ात के बाद ये तय किया गया है कि इस मौके पर सबसे उचित कदम फ्री लतीफ़ा अभियान को बंद करना है. इस अभियान का प्राथमिक उद्देश्य लतीफ़ा को स्वतंत्र रूप में अपनी ज़िंदगी के फैसले लेते हुए देखना था. हमने निश्चित रूप से इस लक्ष्य को प्राप्त करने की दिशा में काफ़ी लंबा सफर तय कर लिया है.”

  12. पाकिस्तान सरकार ने कहा- हमले में टूटे मंदिर को बना लिया गया, 90 गिरफ़्तार

    सोशल मीडिया पर हमले के वीडियो वायरल हो रहे हैं
    Image caption: सोशल मीडिया पर हमले के वीडियो वायरल हो रहे थे

    पाकिस्तान सरकार ने कहा है कि पिछले सप्ताह लाहौर में तोड़े गए एक हिंदू मंदिर को फिर से ठीक कर लिया गया है और इस मामले में लगभग 90 लोगों को गिरफ़्तार किया गया है.

    4 अगस्त को लाहौर से लगभग 600 किलोमीटर दूर रहीम यार ख़ान ज़िले के भोंग शहर में सैकड़ों लोगों ने डंडों, पत्थरों और ईंटों से मंदिर पर हमला कर दिया जिसमें मंदिर के कुछ हिस्से जल गए और मंदिर की मूर्तियों को नुक़सान हुआ.

    हमला करनेवाले लोग ईशनिंदा के आरोप में गिरफ़्तार आठ साल के एक हिंदू लड़के की अदालत से रिहाई को लेकर नाराज़ थे जिसे कथित तौर पर एक स्थानीय मदरसे की लाइब्रेरी में पेशाब करने के लिए गिरफ़्तार कर लिया गया था.

    ज़िले के पुलिस अधिकारी रहीम यार ख़ान असद सरफ़राज़ ने समाचार एजेंसी पीटीआई से कहा, सरकार ने मंदिर के जीर्णोद्धार का काम पूरा कर लिया है और उसे स्थानीय हिंदू समुदाय को सौंप दिया गया है.

    उन्होंने कहा, "अब तक कुल 90 संदिग्ध लोगों को वीडियो फ़ुटेज की मदद से गिरफ़्तार किया गया है और अदालत के सामने पेश किया गया है."

    मंदिर

    इस मामले की भारत और पाकिस्तान दोनों ने निंदा की थी.

    पंजाब के मुख्यमंत्री उस्मान बुज़दार ने इसे एक शर्मनाक हमला बताया था.

    पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट ने भी पिछले शुक्रवार को हमले को नहीं रोक पाने के लिए अधिकारियों की खिंचाई की थी और कहा था कि इस घटना से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पाकिस्तान की छवि पर दाग़ लगा है.

    बलोचिस्तान प्रांत की सत्ताधारी पार्टी बलोचिस्तान अवामी पार्टी के एक हिंदू नेता और सीनेटर दिनेश कुमार ने मंदिर पर हमले की निंदा करते हुए इसे पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों के ख़िलाफ़ एक साज़िश बताया है.

    उन्होंने कहा कि मंदिर थाने से मात्र दो किलोमीटर दूर था फिर भी पुलिस इसे बचाने में नाकाम रही.

    दिनेश कुमार ने ये भी कहा कि हिंदू लोगों ने पुलिस को हमले के ख़तरे की सूचना भी दी थी मगर उन्होंने कुछ नहीं किया.

    उन्होंने कहा कि ये बात भी निंदनीय है कि राजनीतिक नेतृत्व ने इस घटना पर बस एक बयान जारी किया और इस तरह की घटनाओं को रोकने के लिए कोई व्यावहारिक क़दम नहीं उठाया गया.

  13. अफ़ग़ानिस्तान से फ़ौरन निकलें भारतीय- दूतावास ने जारी की चेतावनी, विशेष विमान का इंतज़ाम

    अफ़ग़ानिस्तान

    काबुल स्थित भारतीय दूतावास ने मंगलवार को अफ़ग़ानिस्तान में रह रहे भारतीय नागरिकों से कहा है कि वे तत्काल भारत वापस लौटने के लिए प्रयास करना शुरू करें.

    भारतीय दूतावास ने अफ़ग़ानिस्तान में काम कर रहीं कंपनियों को भी प्रोजेक्ट साइट्स से अपने कर्मचारियों को वापस बुलाने की सलाह दी है.

    पिछले कुछ दिनों में अफ़ग़ानिस्तान में हालात बेहद ख़राब हो गए हैं. तालिबानी लड़ाकों ने एक बड़े भू-भाग पर कब्जा करने के साथ-साथ निमरोज़ प्रांत की राजधानी ज़रंज पर भी कब्जा जमा लिया है.

    इसके साथ ही दिन ब दिन इस क्षेत्र में हालात जोख़िम पूर्ण होते जा रहे हैं. ऐसे में मंगलवार को भारत सरकार ने पहले मज़ार-ए-शरीफ़ से भारतीयों को वापस बुलाने की प्रक्रिया शुरू की है.

    अफ़ग़ानिस्तान में मज़ार-ए-शरीफ़ स्थित भारतीय वाणिज्य दूतावास ने जानकारी दी है कि मंगलवार शाम को एक विशेष विमान नई दिल्ली रवाना हो रहा है.

    मज़ार-ए-शरीफ़ में और आसपास मौजूद भारतीय नागरिकों से आग्रह किया गया है कि वे विशेष विमान से दिल्ली रवाना हो जाएँ.

    मज़ार-ए-शरीफ़ स्थित भारतीय वाणिज्य दूतावास ने अपने ट्वीट में ये भी कहा है कि विशेष विमान से नई दिल्ली जाने वाले भारतीय नागरिक दो वॉट्सऐप नंबरों 0785891303 और 0785891301 पर अपना पूरा नाम, पासपोर्ट नंबर और एक्सपायरी डेट की जानकारी फ़ौरन दें.

    इसके बाद भारतीय दूतावास ने इस बारे में एक व्यापक सिक्योरिटी एडवायज़री जारी की है जिसमें भारतीय नागरिकों को जल्द से जल्द भारत लौटने की सलाह दी गयी है.

    View more on twitter

    बंद हो रही हैं कमर्शियल फ़्लाइट्स

    इस एडवायज़री में बताया गया है कि अफ़ग़ानिस्तान के अलग-अलग इलाकों में जारी हिंसा की वजह से कई जगहों पर व्यापारिक उड़ानें बंद होने लगी हैं.

    एडवायज़री कहती है, “अफ़ग़ानिस्तान में आने, रहने और काम करने वाले सभी भारतीय नागरिकों को दृढ़ता से सलाह दी जाती है कि वे अफ़ग़ानिस्तान के अलग-अलग हिस्सों में कमर्शियल फ़्लाइट्स की उपलब्धता से खुद को अवगत रखें. और अपने रुकने की जगह से कमर्शियल फ़्लाइट बंद होने से पहले भारत आने के लिए तत्काल व्यवस्था करें.”

    अफ़ग़ानिस्तान में अलग-अलग जगहों पर काम कर रहीं भारतीय कंपनियों को प्रोजेक्ट साइट्स से भारतीय कामगारों को बुलाने की सलाह दी गयी है.

    और विदेशी कंपनियों में कार्यरत भारतीय नागरिकों से कहा गया है कि वे अपनी कंपनी से प्रोजेक्ट साइट्स से भारत की यात्रा करने की सुविधा प्रदान करें.

    मीडिया के लिए भी ख़ास चेतावनी

    इस एडवायज़री में अफ़ग़ानिस्तान पहुंचने वाले भारतीय पत्रकारों को भी विशेष सलाह दी गयी है.

    एडवायज़री में कहा गया है, “ये सलाह अफ़ग़ानिस्तान पहुंच रहे भारतीय पत्रकारों पर भी लागू होती है. अफ़ग़ानिस्तान में आने और रहने वाले सभी भारतीय मीडिया कर्मियों के लिए ये बहुत ज़रूरी है कि वे विशेष व्यक्तिगत ब्रीफिंग (इसमें वे जहां जा रहे हैं, उससे जुड़ी विशेष जानकारी भी शामिल है) के लिए दूतावास के पब्लिक अफ़ेयर्स और सिक्योरिटी विंग के साथ संपर्क स्थापित करें.”

  14. किम जोंग उन की बहन ने दक्षिण कोरिया और अमेरिका को धमकाया

    किम यो जोंग
    Image caption: किम यो जोंग

    उत्तर कोरियाई शासक किम जोंग उन की बहन किम यो जोंग ने दक्षिण कोरिया को अमेरिका के साथ सैन्य अभ्यास की दिशा में आगे बढ़ने के कारण धमकी दी है.

    उत्तर कोरियाई शासन में ताकतवर मानी जाने वाली जोंग ने कहा है कि अमेरिका के साथ दक्षिण कोरिया का सैन्य अभ्यास ‘अतिक्रमण’ है.

    साथ ही उन्होंने यह चेतावनी भी दी कि उत्तर कोरिया अब अपनी रक्षात्मक क्षमता बढ़ाने के लिए तेज़ी से काम करेगा.

    किम जोंग उन की बहन की यह चेतावनी दक्षिण कोरिया की उन मीडिया रिपोर्ट्स के बाद आई है जिसमें बताया गया है कि दक्षिण कोरियाई और अमेरिकी सेनाएं चार दिन संयुक्त अभ्यास करेंगी और फिर उसके बाद 16-26 अगस्त तक कंप्यूटर की मदद से होने वाली ड्रिल्स में भी हिस्सा लेंगी.

    किम जोंग उन

    सीधे किम जोंग उन से आया है संदेश

    किम यो जोंग ने कहा कि उन्हें यह बयान जारी करने की ज़िम्मेदारी सौंपी गई थी. वो यह इशारा कर रही थीं कि यह चेतावनी सीधे उनके भाई यानी किम जोंग उन की तरफ़ से आई है.

    जोंग ने उत्तर कोरिया की चेतावनी के बावजूद दक्षिण कोरिया और अमेरिका के साझा सैन्य अभ्यास को “बेईमान वाला बर्ताव’ बताया.

    उन्होंने कहा, ''इससे दोनों देशों (अमेरिका और दक्षिण कोरिया) को ‘गंभीर सुरक्षा ख़तरे’ का सामना करने पर मजबूर होना पड़ेगा.''

    जोंग ने कहा कि अमेरिका और दक्षिण कोरिया के संयुक्त अभ्यास से बाइडन प्रशासन का वो पाखंड ज़ाहिर होता है जिसमें उत्तर कोरिया के परमाणु कार्यक्रम से जुड़ी बातचीत बहाल करने की बात कही गई थी.

    यह भी पढ़ें: किम जोंग-उन ने बहन यो-जोंग को दी ‘बड़ी ज़िम्मेदारियां’

  15. क्रिकेट को ओलंपिक में शामिल कराने के लिए आईसीसी ने कमर कसी

    क्रिकेट

    अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने ओलंपिक में क्रिकेट को शामिल कराने को लेकर अपनी ओर से कोशिश करने की बात कही है.

    आईसीसी का कहना है कि उसका इरादा इस दिशा में और ज़ोर लगाना है.

    आईसीसी ने अपने बयान में कहा है कि उसका लक्ष्य क्रिकेट को 2028 के लॉस एंजेलेस ओलंपिक में शामिल कराना है. अगर ऐसा हुआ तो 128 साल का इंतज़ार 2028 में पूरा हो सकता है.

    1900 के पेरिस ओलंपिक में क्रिकेट को जगह दी गई थी. लेकिन उसके बाद से ऐसा नहीं हुआ.

    2022 के बर्मिंघम राष्ट्रमंडल खेलों में महिला क्रिकेट को जगह दी गई है.

    View more on twitter

    आईसीसी के अध्यक्ष ग्रेग बर्कले का कहना है कि क्रिकेट की दुनिया इस कोशिश को लेकर एकजुट है.

    उन्होंने कहा कि क्रिकेट के दीर्घकालिक भविष्य में ओलंपिक भी एक हिस्सा है.

    आईसीसी ने इस कोशिश के लिए एक वर्किंग ग्रुप का भी गठन किया है.

    ग्रेग बर्कले ने कहा, "अंतरराष्ट्रीय स्तर पर क्रिकेट के एक अरब से ज़्यादा फ़ैन हैं. इनमें से क़रीब क़रीब 90 प्रतिशत क्रिकेट को ओलंपिक में देखना चाहते हैं."

    उन्होंने कहा कि क्रिकेट के फ़ैन्स ख़ास तौर पर दक्षिण एशिया में बहुत अधिक हैं और तीन करोड़ से ज़्यादा क्रिकेट फ़ैन्स अमेरिका के हैं.

    ग्रेग बर्कले ने कहा कि इन फ़ैन्स के लिए अपने नायकों को ओलंपिक पदक के प्रतिस्पर्धा करते देखना काफ़ी ख़ास होगा.

    महिला क्रिकेट
  16. अमेरिकी रक्षा मंत्री ने पाकिस्तानी सेना प्रमुख को लगाया फ़ोन, अफ़ग़ानिस्तान पर की चर्चा

    पाकिस्तान के सेना प्रमुख जनरल क़मर जावेद बाजवा
    Image caption: पाकिस्तान के सेना प्रमुख जनरल क़मर जावेद बाजवा

    अमेरिका के रक्षा मंत्री ने पाकिस्तान के सेना प्रमुख जनरल क़मर जावेद बाजवा से अफ़़ग़ानिस्तान की स्थिति के बारे में बात की है. अमेरिका ने साथ ही कहा है कि भारत ने अफ़ग़ानिस्तान में रचनात्मक भूमिका निभाई है.

    अमेरिकी रक्षा मंत्रालय पेंटागन ने बताया है कि रक्षा मंत्री लॉयड ऑस्टिन ने जनरल बाजवा को फ़ोन कर सुरक्षा और क्षेत्र की स्थिरता के बारे में चर्चा की.

    पेंटागन के प्रेस सचिव जॉन किर्बी ने कहा, "सेक्रेटरी ऑस्टिन और जनरल बाजवा ने अफ़ग़ानिस्तान की मौजूदा स्थिति, क्षेत्रीय सुरक्षा और स्थिरता तथा आपसी रक्षा संबंधों पर चर्चा की."

    अफ़ग़ानिस्तान से दो दशक बाद अंतरराष्ट्रीय सेनाओं की पूर्ण वापसी के एलान के बीच ही वहाँ हिंसा तेज़ हो गई है और इस सिलसिले में बार-बार पाकिस्तान का भी नाम आ रहा है.

    पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद क़ुरैशी ने सोमवार को कहा कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय को अफ़ग़ान सुरक्षाबलों के कमज़ोर पड़ने के कारणों पर विचार करना चाहिए ना कि दूसरों की नाकामियों के लिए पाकिस्तान पर उंगली उठानी चाहिए.

    उन्होंने सोमवार को एक संवाददाता सम्मेलन में कहा,"अफ़ग़ान सेना में लड़ने की इच्छा की कमी, और वो जिस तरह समर्पण करते जा रहे हैं, उसके लिए हमें ज़िम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता. "

    क़ुरैशी ने कहा, "अफ़ग़ानिस्तान में नाकामी के लिए पाकिस्तान को बलि का बकरा बनाना दुर्भाग्यपूर्ण है."

    पाकिस्तानी विदेश मंत्री ने ये टिप्पणी पिछले शुक्रवार को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की आपात बैठक के सिलसिले में की जिसमें पाकिस्तान पर तालिबान की मदद करने का आरोप लगाया गया था.

    मार्च में भारत यात्रा के दौरान रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के साथ अमेरिकी रक्षा मंत्री लॉयड ऑस्टिन
    Image caption: मार्च में भारत यात्रा के दौरान रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के साथ अमेरिकी रक्षा मंत्री लॉयड ऑस्टिन

    भारत की भूमिका की सराहना

    जॉन किर्बी ने साथ ही अपनी प्रेस ब्रीफ़िंग में भारत का ज़िक्र करते हुए कहा," भारत ने अतीत में ट्रेनिंग और बुनियादी ढाँचे के विकास जैसे कामों से अफ़ग़ानिस्तान में एक रचनात्मक भूमिका निभाई है. अफ़ग़ानिस्तान को स्थिरता देने और अच्छा शासन चलाने में मदद करने वाले ऐसे प्रयासों का स्वागत होना चाहिए."

    समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार अफ़ग़ानिस्तान में शांति और स्थिरता के प्रयासों में भारत एक बड़ा साझीदार है और उसने वहाँ लगभग तीन अरब डॉलर का निवेश किया हुआ है.

    पेंटागन प्रवक्ता ने अपनी ब्रीफ़िंग में साथ ही बताया कि अमेरिकी रक्षा मंत्री ने अफ़ग़ानिस्तान की स्थिति लेकर अंतरराष्ट्रीय समुदाय की चिंताओं को साझा किया जो सही दिशा में नहीं जा रही.

    किर्बी ने कहा, "सेक्रेटरी ऑस्टिन का मानना है कि हम अफ़ग़ान सुरक्षाबलों को जहाँ भी मुमकिन होगा मदद देते रहेंगे, जैसे हवाई हमलों में."

    उन्होंने साथ ही कहा कि अभी रक्षा मंत्री का ध्यान इस महीने के अंत तक अफ़ग़ानिस्तान से सेना वापसी के अमेरिकी राष्ट्रपति के निर्देश का पालन करने पर है.

  17. कश्मीर पहुँच राहुल गांधी ने कहा- लगा घर वापस आ रहा हूँ

    राहुल गांधी

    जम्मू कश्मीर के दौरे पर पहुँचे कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने जम्मू-कश्मीर के लिए पूर्ण राज्य का दर्जा बहाल करने और यहां स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव कराने की मांग की है.

    अपनी दो दिवसीय यात्रा के दौरान मंगलवार को राहुल गांधी खीर भवानी मंदिर और हज़रतबल मस्जिद पहुंचे.

    श्रीनगर में पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए राहुल गाँधी ने कहा कि कश्मीर आकर ऐसा लग रहा है कि जैसे वह घर वापस लौटे हों.

    उन्होंने कहा, “मेरा परिवार दिल्ली में रहता है. दिल्ली से पहले मेरा परिवार इलाहाबाद में रहता था और इलाहाबाद से पहले मेरा परिवार यहां (कश्मीर) रहता था. मेरे परिवार के लोगों ने भी झेलम का पानी पिया होगा. आपकी जो सोच है, परंपराएं हैं, वो थोड़ी मेरे अंदर भी हैं. हम जिसे कश्मीरियत कहते हैं, वो थोड़ी सी मेरे अंदर भी है, मुझे लगता है कि मैं वापस आ रहा हूं, घर आ रहा हूं.”

    उन्होंने कहा कि “जो आप मुझसे प्यार और इज़्ज़त से करवा सकते हो, वो नफ़रत और हिंसा से कभी नहीं करवा सकते हैं. और वही कश्मीरियत है."

    View more on twitter

    ‘पूरे हिंदुस्तान पर हो रहा है आक्रमण’

    राहुल गांधी ने कहा है कि आक्रमण सिर्फ जम्मू और कश्मीर पर ही नहीं हो रहा है, ये आक्रमण पूरे हिंदुस्तान पर हो रहा है.

    उन्होंने कहा, “ग़ुलाम नबी आज़ाद जी ने कहा कि हमें संसद में बोलना चाहिए. मगर संसद में हमें बोलने नहीं दिया जाता. पार्लियामेंट में हमें दबा देते हैं. मैं संसद में पेगासस, रफाएल, जम्मू-कश्मीर के बारे में, भ्रष्टाचार के बारे में या बेरोजगारी के बारे में नहीं बोल सकता.

    और हिंदुस्तान की सभी संस्थाओं पर ये लोग आक्रमण कर रहे हैं. न्यायपालिका पर आक्रमण कर रहे हैं. विधानसभा, लोकसभा और राज्य सभा पर आक्रमण कर रहे हैं.”

    इसके साथ ही उन्होंने कहा कि "भारत के संवैधानिक ढांचे पर भी आक्रमण किया जा रहा है और बाकी हिंदुस्तान पर इन-डायरेक्ट और जम्मू-कश्मीर पर डायरेक्ट...”

    राहुल गांधी ने कहा कि वह जम्मू-कश्मीर के साथ इज़्ज़त और प्यार का रिश्ता चाहते हैं, मैं नरेंद्र मोदी के ख़िलाफ़ लड़ता हूं, और हम लड़ेंगे और नरेंद्र मोदी और उनकी हिंदुस्तान को बांटने-तोड़ने की और हिंसा की विचारधारा के ख़िलाफ़ हम लड़ेंगे और हराएंगे.”

    View more on twitter
  18. चीन में कनाडा के नागरिक को क्यों दी जा रही है मौत की सज़ा?

    अदालत में रॉबर्ट लॉयेड शेलेनबर्ग (14 जनवरी 2019 की तस्वीर)
    Image caption: अदालत में रॉबर्ट लॉयेड शेलेनबर्ग (14 जनवरी 2019 की तस्वीर)

    सुरंजना तिवारी

    बीबीसी संवाददाता

    चीन में ड्रग्स तस्करी के मामले में एक कनाडाई नागरिक को फाँसी दी जानी तय हो गई है.

    रॉबर्ट लॉयेड शेलेनबर्ग नाम के इन कनाडाई नागरिक ने मौत की सजा के ख़िलाफ़ अपील की थी लेकिन उनकी अपील ख़ारिज कर दी गई.

    अदालत ने कहा कि रॉबर्ट के ख़िलाफ़ दोष साबित करने के लिए ‘पर्याप्त सबूत’ हैं.

    रॉबर्ट को पहले 15 साल जेल की सज़ा सुनाई गई थी लेकिन साल 2019 में कोर्ट ने कहा कि उनकी सज़ा कुछ ज़्यादा ही उदार है.

    इसके बाद उन पर दोबारा मुक़दमा चलाया गया और फिर मौत की सज़ा सुनाई गई.

    यह फ़ैसला ऐसे समय में आया है कनाडा और चीन के रिश्ते पहले से ही तनावपूर्ण हैं.

    रॉबर्ट शेलेनबर्ग को चीन में साल 2014 में चीन से ऑस्ट्रेलिया भारी मात्रा में ड्रग्स ले जाने की कोशिश के आरोपों में हिरासत में लिया गया था.

    शेलेनबर्ग इन आरोपों से इनकार करते हैं और उनका कहना है कि वो चीन महज़ एक पर्यटक के तौर पर गए थे.

    मेंग वांगझू
    Image caption: मेंग वांगझू

    कनाडा में हिरासत में हैं चीनी कंपनी के वरिष्ठ अधिकारी

    चीन में कनाडा के राजदूत डोमिनिक बार्टन ने चीनी अदालत के इस फ़ैसले की निंदा की है.

    उन्होंने कहा कि यह ‘महज संयोग’ नहीं है कि कनाडाई नागरिक को फाँसी का फ़ैसला ऐसे समय में आया है जब चीनी कंपनी ख़्वावे की सीनियर एग्ज़िक्युटिव मेंग वांगझू के प्रत्यर्पण का मामला कनाडा में चल रहा है.

    मेंग वांगझू चीनी टेलिकॉम कंपनी ख़्वावे के संस्थापक रेन झेंग्फ़ेई की बेटी हैं और उन्हें अमेरिका के वॉरंट पर कनाडा में हिरासत में रखा गया है.

    साल 2019 में रेन झेंग्फई ने आरोप लगाया था कि उनकी बेटी की गिरफ़्तारी राजनीति से प्रेरित है.

    कनाडा इस मामले में चीन पर ‘होस्टेज डिप्लोमैसी’ का आरोप लगाता रहा है.

    वहीं, चीन का कहना है कि इन दोनों घटनाओं का आपस में कोई संबंध नहीं है.

  19. पीएम मोदी ने शुरू किया उज्ज्वला योजना का दूसरा चरण, मुफ़्त मिलेंगे 1 करोड़ गैस कनेक्शन

    नरेंद्र मोदी

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उत्तर प्रदेश के महोबा में 10 महिलाओं को मुफ्त गैस कनेक्शन देकर उज्ज्वला योजना के दूसरे चरण का उदघाटन किया है.

    प्रधानमंत्री ने इस अवसर पर कहा," उज्ज्वला योजना ने देश के जितने लोगों, जितनी महिलाओं का जीवन रोशन किया है, वो अभूतपूर्व है. ये योजना 2016 में यूपी के बलिया से, आजादी की लड़ाई के अग्रदूत मंगल पांडे की धरती से शुरु हुई थी. आज उज्ज्वला का दूसरे संस्करण भी यूपी के ही महोबा की वीरभूमि से शुरु हो रहा है."

    प्रधानमंत्री ने उज्ज्वला योजना को महिलाओं के लिए क्रांतिकारी बताते हुए कहा, "हमारी बेटियां घर और रसोई से बाहर निकलकर राष्ट्रनिर्माण में व्यापक योगदान तभी दे पाएंगी, जब पहले घर और रसोई से जुड़ी समस्याएं हल होंगी. इसलिए, बीते 6-7 सालों में ऐसे हर समाधान के लिए मिशन मोड पर काम किया गया है."

    2016 में शुरू हुई प्रधानममंत्री उज्ज्वला योजना के तहत आरंभ में ग़रीबी रेखा से नीचे के परिवारों की 5 करोड़ महिलाओं को एलपीजी कनेक्शन देने का लक्ष्य रखा गया था.

    2018 में इस योजना का विस्तार कर उसमें एससी, एसटी सात अन्य वर्गों को शामिल किया गया.

    साथ ही लक्ष्य को 5 करोड़ से बढ़ाकर 8 करोड़ कर दिया गया. अधिकारियों के मुताबिक़ ये लक्ष्य समय से सात महीने पहले ही अगस्त 2019 में हासिल कर लिया गया.

    इसके बाद 2021-22 के बजट में उज्ज्वला योजना के दूसरे चरण में एक करोड़ अतिरिक्त गैस कनेक्शन देने की घोषणा की गई थी.

    इसके तहत कम आय वर्ग के परिवारों को जमा राशि के बिना गैस कनेक्शन दिए जाएँगे.

    प्रधानमंत्री ने अपने भाषण में साथ ही कहा कि सरकार ये भी प्रयास कर रही है कि 'रसोई में पानी की तरह गैस भी पाइप से आए, ये गैस सिलेंडर के मुकाबले बहुत सस्ती भी होती है, उत्तर प्रदेश सहित पूर्वी भारत के अनेक ज़िलों में पीएनजी कनेक्शन देने का काम तेज़ी से चल रहा है.'

    View more on twitter
    View more on twitter