वो ड्रग, जो हेरोइन से 50 गुना ज़्यादा ख़तरनाक है

  • 22 अक्तूबर 2017
फेंटेनाइल इमेज कॉपीरइट Getty Images

'अगर एक से 10 के स्केल पर हेरोइन दूसरे नंबर पर है तो फ़ेंटेनाइल का नंबर स्केल के आखिरी नंबर से एक कदम आगे 11 है. हेरोइन और फ़ेंटेनाइल में फर्क यूं समझिए कि हेरोइन में आपको तकिए से लगा झटका महसूस होगा और फ़ेंटेनाइल में ट्रेन से लगी टक्कर जैसा.'

ल्यूक फ़ेंटेनाइल इस्तेमाल करते हैं. ल्यूक को हेरोइन से 20-25 और मोर्फिन से क़रीब 50-100 गुणा शक्तिशाली सिंथेटिक पेन किलर की लत है.

ब्रिटेन में ज़्यादातर लोग ड्रग के बारे में शायद कम ही सुनते हैं. लेकिन अमरीका में फ़ेंटेनाइल जैसे ड्रग की वजह से मरने वालों की संख्या में लगातार इजाफ़ा हो रहा है. ये हालात इतने बदतर हैं कि सरकार को नेशनल इमरजेंसी का ऐलान करना पड़ा.

इमेज कॉपीरइट BBC THree

तीन करोड़ 20 लाख लोगों को मार सकने जितनी फ़ेंटेनाइल

हाल ही में न्यूयॉर्क में तीन करोड़ 20 लाख लोगों को मार सकने जितनी फ़ेंटेनाइल बरामद हुई है. अथॉरिटी ने क़रीब 195 पाउंड फेंटाइल ज़ब्त की और चार लोगों को गिरफ़्तार किया है. इसकी बाज़ार में क़ीमत लगभग 195 करोड़ रुपये बताई गई.

अमरीका के सरकारी आंकड़ों की ही बात करें तो इस ड्रग की वजह से मरने वालों की संख्या बढ़ी है. साल 2016 में ओवरडोज लेने की वजह से करीब 33 हज़ार लोगों की ज़िंदगी से हाथ धोना पड़ा. फ़ेंटेनाइल तेजी से अमरीकी बाज़ार में अपनी अलग जगह बना रहा है.

हालांकि फ़ेंटेनाइल की वजह से कितनी मौतें हुई हैं, इसकी आधिकारिक गिनती की जानी बाक़ी है. लेकिन वॉशिंगटन पोस्ट ने अपनी रिपोर्ट में बीते साल इस ड्रग की वजह से 3946 मौतें होने की बात कही. मरने वालों में सिंगर प्रिंस भी शामिल रहे, जिनकी मौत सुर्खियों में रही.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

अब यूनाइटेड किंगडम की फ़ेंटेनाइल से निपटने की बारी है.

माना जा रहा है कि ब्रिटेन में बीते साल इस ड्रग ने अपनी जड़े जमानी शुरू कर दी हैं और इस साल अगस्त तक इस ड्रग की वजह से 60 लोग अपनी जान खो चुके हैं. ओवरडोज की वजह से हुई मौतों के ज़्यादातर मामले यॉर्कशायर, हंबर और हल के हैं. ये इलाके ड्रग डीलर्स और फेंटेनाइल मिलने के लिए कुख्यात हैं.

बीबीसी थ्री के हालिया एपिसोड ड्रग मैप ऑफ ब्रिटेन का मुख्य मुद्दा फ़ेंटेनाइल रहा. इस कार्यक्रम में फ़ेंटेनाइल इस्तेमाल करने वालों ने अपने अनुभव साझा किए. लोगों ने बताया कि कैसे फ़ेंटेनाइल ने उनकी ज़िंदगी को तबाह किया.

ल्यूक कहते हैं, ''मैंने जब पहली बार फ़ेंटेनाइल का इस्तेमाल किया, इसने मेरे होश उड़ा दिए. ये बहुत शक्तिशाली था. मैं शर्मिंदा हूं कि मैंने जो किया लेकिन मैं ये भी कहूंगा मैं खुद को नहीं रोक सकता.''

ल्यूक ने ये ड्रग पहली बार तब लिया, जब उनके मां-बाप की मौत हुई और उनके दादा-दादी छोड़कर चले गए. हेरोइन को खोजते हुए ल्यूक का साबका फ़ेंटेनाइल से पड़ा. बाक़ी ड्रग यूजर्स की तरह ल्यूक को भी फ़ेंटेनाइल की लत लग गई. ल्यूक अब बेघर हैं और उन्हें ठिकाने की तलाश है.

इमेज कॉपीरइट BBC Three

पेन किलर बना लाइफ़ किलर

इस ड्रग को क़ानूनी तौर पर शक्तिशाली दर्द निवारक माना गया है लेकिन ड्रग डीलर्स फैक्ट्रियों में सिंथेटिक इस्तेमाल करते हुए फ़ेंटेनाइल का ख़तरनाक रूप तैयार कर रहे हैं.

कार्यक्रम में शामिल हुए 60 पीड़ितों में हर उम्र के लोग थे. इनमें पुरुष और महिलाएं दोनों शामिल थे और किसी की उम्र 18 से कम नहीं थी. कुछ लोगों ने तारीफ़ सुनने के बाद इस ड्रग का सेवन किया और कुछ ने हेरोइन की तलाश करते हुए.

ये ड्रग एक जैसा ही दिखता है लेकिन दो या तीन मिलिग्राम फ़ेंटेनाइल किसी के लिए भी घातक साबित हो सकते है. ये धीरे धीरे आपके शरीर को सुस्त करता है. सांस, ब्लड प्रेशर और नाड़ी सब होले-होले कम होने लगती है. इस ड्रग को लेने के बाद सांस लेने में दिक्कतें होने लगती हैं और ये हालात बदतर होने पर दम घुटने जैसे हालात भी हो सकते हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

मोर्फ़िन से 10 हज़ार ज़्यादा ख़तरनाक क्या?

ख्याल इस बात का भी रखा जा रहा है कि फ़ेंटेनाइल के बाद कोई नया ड्रग बाज़ार में न आ जाए. इसमें पहला नाम कारफ़ेंटेनाइल का है. ये जानवरों को सुन्न करने के लिए इस्तेमाल होने वाला एक ड्रग है. ये मोर्फ़िन से दस हज़ार ज़्यादा गुणा शक्तिशाली है.

हालांकि जिन लोगों को फ़ेंटेनाइल की लत लग गई है, वो इसे जैसे-तैसे हासिल कर ही लेते हैं.

ल्यूक बताते हैं, ''ये हर जगह है. बस आपको इतना पता होना चाहिए कि ये कैसे मिलेगा. ये एक सीक्रेट अंडरवर्ल्ड की तरह है.''

साढ़े तीन हज़ार करोड़ की हेरोइन ज़ब्त

कराची में 'पाँच लाख' हेरोइन के नशेड़ी

नशेड़ियों को फ्रांस सरकार का अनोखा गिफ्ट

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे