समंदर आज भी तय करते हैं हमारी ज़िंदगी के रास्ते

  • 20 फरवरी 2018
हेलन और पेरिस इमेज कॉपीरइट BBC/WILD MERCURY
Image caption बीबीसी नेटफ्लिक्स के नाटक 'ट्रॉय' में हेलेन और पेरिस

'जो इतिहास से सबक़ नहीं लेते, वो उसे दोहराने को अभिशप्त होते हैं- यूरोपीय दार्शनिक जॉर्ज सैंटयाना की ये बात बहुत गहरे अर्थ वाली है और हर दौर, हर समाज, हर देश पर लागू होती है. सवाल ये है कि इतिहास हमें क्या सबक़ देता है?

तो, इसका जवाब ये है कि इतिहास का हर दौर, आने वाले वक़्त के लिए सबक़ है. किसी दौर की कामयाबी, किसी दौर की तबाही. किसी राजा की शोहरत, किसी देश की बदनामी, किसी का ज़ुल्म, किसी की दानवीरता, इतिहास का हर क़िस्सा अपने आप में एक सबक़ है.

आपने ट्रॉय का क़िस्सा तो सुना होगा? वही ट्रॉय, जिसका राजकुमार पेरिस, स्पार्टा की राजकुमारी हेलेन को भगाकर ले गया था. फिर इस अपमान का बदला लेने के लिए ग्रीक सेनाओं ने ट्रॉय पर हमला बोलकर उसे तबाह कर दिया था.

ग्रीस से दुनिया को ये ये चीज़ें मिली हैं

वो शहर, जिसे अजनबियों से मुहब्बत है

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption कांस्य युग के ट्रॉय में काले सागर के रास्ते आने जाने वाले जहाज़ों पर टैक्स लगाया जाता था

प्राचीन काल में लिखे गए दो यूनानी महाकाव्यों इलियड और ओडिसी में इस लड़ाई का ज़िक्र मिलता है. इन्हें लिखने वाले ग्रीक कवि होमर, उस दौर का इतिहास नहीं लिख रहे थे.

माना यही जाता है कि उन्होंने अपने महाकाव्यों में एक काल्पनिक क़िस्से को प्रस्तुत किया था. लेकिन, हम ये क़िस्सा पिछले क़रीब 3 हज़ार से भी ज़्यादा साल से सुनते आ रहे हैं.

अब, ट्रॉय की लड़ाई कितनी हक़ीक़त और कितना फ़साना थी, ये तो फ़िलहाल नहीं मालूम. मगर, पश्चिमी सभ्यता में ट्रॉय का क़िस्सा बहुत मशहूर है. बल्कि पूरी दुनिया में इसे बड़े चाव से पढ़ा जाता है. इसी लोकप्रियता को एक बार फिर से भुनाने की कोशिश हो रही है. बीबीसी वन पर 'ट्रॉय:फॉल ऑफ़ एक सिटी' के नाम से एक सिरीज़ शुरू हुई है.

आने वाली सदी में आबादी बढ़ेगी या घटेगी?

प्राचीन सभ्यता के इस चिह्न का क्या है रहस्य?

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption विश्व व्यापार के लिए आज भी 'द दर्दानेल्स' को बेहद अहम माना जाता है

ट्रॉय नाम की जगह भी थी, इस बारे में भी यक़ीन से नहीं कहा जा सकता. पर, एक बात तो तय है कि ये क़िस्सा जिस इलाक़े का बताया जाता है, वो बेहद अहम कारोबारी बंदरगाह ज़रूर रहा होगा. ये वो जगह है, जहां एशिया और यूरोप मिलते हैं.

इसे आज हम 'द दर्दानेल्स' के नाम से जानते हैं. ये वो जलसंधि है, जहां एशियाई तुर्की और यूरोपीय तुर्की मिलते हैं. इस जलसंधि को लेकर, यूरोपीय इतिहास के हर दौर में देश भिड़ते रहे हैं. पहले विश्व युद्ध में भी इस जगह पर क़ब्ज़े के लिए गैलीपोली का युद्ध हुआ था.

द दर्दानेल्स से होकर आज भी दुनिया भर के गेहूं का बीस फ़ीसद कारोबार होता है.

मिस्र में मिलीं बच्चों की हज़ारों बरस पुरानी ममी

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption होमरूज़ की खाड़ी में ईरान के जहाज़. इस खाड़ी के रास्ते विश्व की ज़रूरत के तेल का कुल पांचवे हिस्से का आयात निर्यात होता है.

माना जाता है कि ट्रॉय नाम का कोई शहर था तो वो इसी जलसंधि के आस-पास रहा होगा. किसी दौर में एक अहम समुद्री बंदरगाह रहा होगा, इसमें कोई शक नहीं. ट्रॉय की कहानी जिस दौर की है, उस दौर को हम मानवता के इतिहास के कांस्य युग के नाम से जानते थे.

ईसा के 1300 साल पहले भूमध्य सागर के आस-पास मिस्र, हित्तियों, मध्य तुर्की, यूनानी, बेबीलोन और मध्य-पूर्व के देशों में कई शहरी सत्ताएं क़ायम थीं. इनके बीच ख़ूब कारोबार होता था.

द दर्दानेल्स की जलसंधि से उस वक़्त बहुत से जहाज़ गुज़रते रहे होंगे. जिन्हें रोककर ट्रॉय के राजा ख़ूब टैक्स वसूली करते रहे होंगे.

यरूशलम क्यों है दुनिया का सबसे विवादित स्थल?

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption कांस्य युग की अर्थव्यवस्था में कांच, टिन और तांबा समेत अन्य वस्तुओं को लाने-ले जाने के लिए इस तरह के जहाज़ों का इस्तेमाल किया जाता था

लेकिन, 1170 ईसा पूर्व तक आते आते, मिस्र को छोड़कर बाक़ी सभी साम्राज्यों का ख़ात्मा हो गया था. इसके बाद अंधकार युग शुरू हो गया. हालात इतने बिगड़ गए कि लिखने-पढ़ने की कला भी विलुप्त सी हो गई.

ब्रिटिश म्यूज़ियम के जे लेस्ले फिटन कहते हैं कि होमर ने ट्रॉय का जो क़िस्सा लिखा है, वो असल घटना के क़रीब 4 सौ बरस बाद का है. ये इतिहास है, तो इसमें काफ़ी कल्पनाएं भी शामिल हैं.

10 नामचीन यूनिवर्सिटी और पढ़ाई बिल्कुल मुफ़्त!

इमेज कॉपीरइट Getty Images

कांस्य युग में अंतरराष्ट्रीय कारोबार-

इतिहास का कांस्य युग राजमहलों से चलने वाले देशों का था. ये सभी देश किसी न किसी चीज़ के लिए एक-दूसरे पर निर्भर हुआ करते थे. ये ठीक आज के दौर जैसा था. जैसे पूरी दुनिया के वित्तीय बाज़ार, कारोबार और लेन-देन आज एक-दूसरे से जुड़े हैं.

उस दौर में कांसा सबसे अहम था. इसके बग़ैर कोई भी देश ताक़तवर सेना नहीं खड़ी कर सकता था. और बिना मज़बूत फौज के कोई देश ताक़तवर नहीं हो सकता था.

कांसा बनाने के लिए भूमध्य सागर के आस-पास के देश साइप्रस पर निर्भर थे. मगर, इसके लिए ज़रूरी दूसरी धातु यानी टिन, चार हज़ार किलोमीटर दूर स्थित अफ़ग़ानिस्तान से आता था. ये टिन पहले ज़मीन के रास्ते से सीरिया पहुंचता था. फिर वहां से जहाज़ों के ज़रिए दूसरे देशों तक.

उस दौर में कांसे की वही अहमियत थी, जो आज तेल की है.

वो कैसेनोवा जिसे दुनिया नहीं जानती

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption ये जगह माइसिने शायद कांस्य युग के दौरान यूनान की राजधानी हुआ तरती थी

यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन की डॉक्टर कैरोल बेल कहते हैं कि हथियार बनाने लायक़ ज़रूरी टिन जुटाना उस दौर के हर शासक का पहला लक्ष्य था. ठीक उसी तरह, जैसे आज हर अमरीकी राष्ट्रपति के ज़हन में यही ख़याल होता है कि वो अमरीकी लोगों को कैसे सस्ता तेल मुहैया कराएं.

कारोबार की दिक़्क़तें-

आज 21वीं सदी में हम ने बहुत तरक़्क़ी कर ली है. तकनीकी रूप से ताक़तवर हो गए हैं. फिर भी, दुनिया में ऐसे चोकिंग प्वाइंट्स हैं, जहां कारोबार रुकने पर दुनिया भर पर असर पड़ता है. 2012 में ईरान ने धमकी दी थी कि वो होरमुज़ जलसंधि से होकर कारोबार रोक देगा. होरमुज़ जलसंधि से होकर दुनिया का 20 फ़ीसद तेल कारोबार होता है. अगर, ईरान इस पर रोक लगाता, तो दुनिया का कमोबेश हर देश प्रभावित होता.

यूरोप में लगातार क्यों हो रहे हैं चरमपंथी हमले?

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption साल 2011 में जापान के फुकुशिमा में आए भूकंप और सुनामी का असर दुनिया के कम्पयूटर उपकरण के बाज़ार पर पड़ा था

पिछले साल ब्रिटेन के थिंक टैंक चैथम हाउस ने कहा था कि वो दुनिया भर के ऐसे कारोबारी 'चोकिंग प्वाइंट्स' के बेहतर प्रबंधन की कोशिश करे.

'द दर्दानेल्स' से होकर आज भी दुनिया भर के गेहूं का पांचवां हिस्सा गुज़रता है. अगर तुर्की ने ये रास्ता रोका, तो पूरी दुनिया को झटका लगेगा. दुनिया भर में खाने की क़ीमतें बढ़ जाएंगी.

जब आज के दौर में ऐसा होने का डर है, तो सोचिए कि कांस्य युग में तो ऐसा अंतरराष्ट्रीय सहयोग भी नहीं था. ऐसे में किसी भी एक देश ने ऐसा रास्ता रोका, तो तबाही ही मच जानी थी.

सीरिया कनेक्शन पर शतरंज संघ को स्विस चेकमेट!

तेल के दाम और किसान की क़ीमत

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption भूखमरी के कारण परेशान हित्ती लोगों ने मिस्र से मदद की गुज़रिश की

जलवायु परिवर्तन की चुनौती-

आज पूरी दुनिया में धरती की आबो-हवा बिगड़ने की बहुत चर्चा होती है. कांस्य युग में भी जलवायु परिवर्तन का तमाम देशों पर गहरा असर पड़ता था.

अमरीका की जॉर्ज वॉशिंगटन यूनिवर्सिटी के प्रोफ़ेसर एरिक क्लाइन कहते हैं कि उस दौर में भी अकाल पड़ा करते थे. उस दौर के कई ऐसे पुरातात्विक सबूत मिले हैं, जो ये बताते हैं कि कांस्य युग में बहुत से देशों में क़रीब तीन सौ सालों तक अकाल पड़ा रहा था. उस दौर में भूमध्य सागर का तापमान बहुत ठंडा हो गया था. नतीजा ये कि आस-पास के इलाक़ों में बारिश बहुत कम हो गई थी.

कांस्य युग में तो देशों को एक के बाद एक कई तरह की तबाहियां देखी थीं. सूखा और अकाल ही नहीं, ज्वालामुखी विस्फोट, भयंकर ज़लज़ले, गृह युद्ध, बड़े पैमाने पर उठ खड़ा हुआ शरणार्थी संकट और कारोबार में बाधा पड़ने जैसी मुश्किलों ने एक के बाद एक भूमध्य सागर के आस-पास के देशों को परेशान किया था.

दो सौ से ज़्यादा के डूबने की आशंका

इमेज कॉपीरइट TIM BOWLER
Image caption नील नदी के तट पर बसे होने के कारण मिस्र के लिए भुखमरी कभी एक बड़ी समस्या नहीं बना

प्रोफ़ेसर क्लाइन कहते हैं कि कोई एक मुश्किल हो तो कोई निपट भी ले, एक साथ कई आफ़तों के हमले ने पूरे इलाक़े की व्यवस्था को नेस्तनाबूद कर दिया था.

आज हम बहुत तरक़्क़ी कर चुके हैं. मगर 2011 मे जापान में आए फुकुशिमा भूकंप ने पूरी दुनिया पर असर डाला था. कंप्यूटर के कल-पुर्ज़ों की सप्लाई बाधित हुई थी.

क्या मिस्र ने इसराइल से खुद पर हवाई हमले करवाए?

इमेज कॉपीरइट Alamy
Image caption होमर का ट्रोजन हॉर्स एक लड़ाई के लिए तैयार किए गए बड़े इंजन के जैसा होगा

एक के बाद एक तबाही-

1250 ईसा पूर्व तक भूमध्य सागर के आस-पास के देश कई मुश्किलों से एक साथ जूझ रहे थे. तुर्की पर राज करने वाले हित्तियों की एक रानी ने मिस्र को चिट्ठी लिखकर मदद मांगी थी. इसमें हित्ती रानी ने लिखा था कि मदद फौरन न आई, तो सब भूख से मर जाएंगे.

मिस्र ने फौरन अनाज की बोरियां हित्तियों की मदद के लिए रवाना की थीं. जैसे, आज कई देश दूसरों की मदद का ख़ूब शोर मचाते हैं. ठीक उसी तरह कांस्य युग में भी मिस्र के फराओ ने ग़ुरूर से कहा था कि उसने अनाज से लदे जहाज़ हित्तियों के देश रवाना किए हैं.

लेकिन, उस दौर में इस अंतरराष्ट्रीय सहयोग की अपनी सीमाएं थी. सबको मदद मिल नहीं पाती थी. नतीजा ये होता था कि कई जगहों पर गृह युद्ध छिड़ जाते थे.

दिल्ली और इसराइली शहर हाइफ़ा का कनेक्शन क्या है?

इमेज कॉपीरइट KORYVANTES
Image caption कास्य युग के लड़ाकों की तरह कपड़े पहने कलाकार

होमर के महाकाव्य: हक़ीक़त या फ़साना ?

ट्रॉय की लड़ाई स्पार्टा की राजकुमारी हेलेन को ट्रॉय के राजकुमार पेरिस के भगा ले जाने की वजह से हुई थी. ये क़िस्सा इलियड और ओडिसी महाकाव्यों में मिलता है.

उस दौर के दस्तावेज़ बताते हैं कि ग्रीक राजाओं ने अनातोलिया पर कई बार धावा बोला था. जिस जगह पर ट्रॉय शहर के होने का अंदाज़ा लगाया जाता है, वो समुद्री कारोबार के लिहाज़ से बहुत अहम था.

ज़ाहिर है कि ट्रॉय को लेकर तुर्की और ग्रीक शासकों के बीच झगड़े ज़रूर हुए होंगे. 1200 ईसा पूर्व के दौरान इस शहर को यक़ीनी तौर पर तबाहो-बर्बाद कर दिया गया था. हालांकि इसके ठोस सबूत ग्रीस में नहीं मिलते. मगर, सीरिया में ज़रूर उस जंग के निशान मिले हैं. वहां पर कुछ ऐसे सबूत मिले हैं, जो बताते हैं कि ट्रॉय की लड़ाई की वजह से बहुत से लोग भागकर सीरिया पहुंचे थे और पनाह ली थी.

क़िस्से-कहानियों के वो समुद्री दैत्य

इमेज कॉपीरइट BBC/WILD MERCURY
Image caption हित्ती लोगों को कुशल समुद्री जहज़ चलाने वाला माना जाता था

जंग की वजह से हज़ारों लोग भाग कर आस-पास के देशों में घुस गए थे. इन देशों ने मदद के लिए गुहार भी लगाई. मगर उनकी गुहार किसी ने नहीं सुनी.

भयंकर लड़ाई की वजह से भागे लोगों ने तब मिस्र का रुख़ किया. लेकिन मिस्र ने इन लोगों को अपने इलाक़े में घुसने से रोक दिया. मिस्र के राजाओं को लगा कि ये शरणार्थी उनके लिए मुसीबत बन जाएंगे.

ये बात सुनकर आपको डोनाल्ड ट्रंप की याद ज़रूर आई होगी. जो अमरीका की हर परेशानी के लिए शरणार्थियों को ज़िम्मेदार मानते हैं.

इमेज कॉपीरइट Alamy
इमेज कॉपीरइट Getty Images

मिस्र के एक शिलालेख में उस दौर का क़िस्सा दर्ज है. इसमें लिखा है कि दुश्मन देश हमारे ख़िलाफ साज़िश रच रहे हैं. इनका सिरे से ख़ात्मा होना ज़रूरी है.

समंदर के रास्ते आ रहे इन लोगों को मिस्र ने मार-काटकर अपने इलाक़े में घुसने से रोक दिया.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

जीत की हार-

अब अगर यूनान के राजाओं ने मिलकर ट्रॉय को तबाह कर दिया था. तो भी उनकी जीत बहुत दिनों तक क़ायम नहीं रख सकी.

कुछ ही साल के भीतर यूनान के राज्य, हित्ती, सीरियाई देश, असीरियन और बेबीलोनियन सत्ताएं तबाही की कगार पर पहुंच गईं. इस दौर में सिर्फ़ मिस्र ही बच रहा.

जॉर्ज वॉशिंगटन यूनिवर्सिटी के प्रोफ़ेसर क्लाइन कहते हैं कि उस दौर में राजा सिर्फ़ देवी-देवताओं से प्रार्थना ही कर सकते थे.

वो आगाह करते हैं कि इतिहास से हम ये सीखते हैं कि हर सभ्यता अंत में तबाह हो गई. ऐसे में ये सोचना अहंकार है कि हमारा दौर ऐसे ही चलता रहेगा.

इमेज कॉपीरइट BBC/WILD MERCURY
Image caption ट्रॉय की हेलेन वो चेहरा था जिसने हज़ारों योद्धाओं को समंदर के रास्ते हमला करने के लिए मजबूर कर दिया

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए