वर्जिनिटी खोने की क्या कोई सही उम्र होती है

  • 16 जनवरी 2019
सेक्स एजुकेशन, कपल इमेज कॉपीरइट Getty Images

ब्रिटेन में यौन व्यवहार पर किया गया एक सर्वे बताता है कि नौजवानों को बहुत कम उम्र में यौन संबंध बनाकर अपनी वर्जिनिटी खोने का बहुत अफ़सोस होता है.

किशोरावस्था में चल रहीं एक तिहाई से ज़्यादा महिलाओं और एक चौथाई से ज़्यादा पुरुषों ने माना कि जब उन्होंने पहली बार यौन संबंध बनाए, तो वो समय सही नहीं था.

ब्रिटेन में यौन संबंधों के लिए क़ानूनी रूप से 16 साल या उससे ज़्यादा उम्र होनी जरूरी है.

सेक्शुअल एटीट्यूड एंडसेक्शुअल एटीट्यूड एंड लाइफस्टाइल पोल के एक हालिया देशव्यापी सर्वेक्षण के मुताबिक कई लोग इस उम्र में संबंधों के लिए तैयार नहीं होते हैं.

यह सर्वेक्षण हर दस साल में किया जाता है जो ब्रिटेन में यौन व्यवहार की एक विस्तृत जानकारी देता है.

इस हालिया सर्वेक्षण के नतीजे लंदन स्कूल ऑफ हाइ​जीन एंड ट्रॉपिकल मेडिसिन में बीएमजे सेक्शुअल एंड रिप्रोडक्टिव हेल्थ में प्रकाशित हुए थे. यह सर्वे 3000 नौजवानों पर किया गया था जो 2010-2012 में पूरा हुआ.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

क्या कहता है सर्वे

युवा लड़के-लड़कियों की प्रतिक्रियाओं से पता चलता है कि 40% लड़कियों और 26% लड़कों को लगता है कि यौन संबंधों का उनका पहला अनुभव "सही समय पर नहीं था".

जब उनसे और गहराई में बात की गई तो अधिकतर ने कहा कि उन्हें लगता है कि उन्हें थोड़ा और इंतज़ार करना चाहिए था जबकि कुछ ही लोग ऐसे थे जिन्होंने कहा कि उन्हें और कम उम्र में संबंध बनाने चाहिए थे.

अधिकतर लोगों ने तब संबंध बनाए थे जब वो 18 साल के थे. आधों ने तब संबंध बनाए जब वो 17 साल के होने वाले थे. एक तिहाई लोगों ने 16 साल से पहले संबंध बनाए थे.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

संबंधों के लिए मर्ज़ी या दबाव

इस सर्वेक्षण में यौन क्षमता और इच्छा पर भी गौर किया गया. इसमें देखा ​गया कि क्या दोनों पार्टनर्स ने सोच-समझकर अपनी मर्ज़ी से यौन संबंध बनाने का फैसला लिया था या दोस्तों के दबाव में आकर या उनसे प्रभावित होकर ऐसा किया था. क्या इसमें दोनों की बराबर मर्ज़ी थी.

इसका जवाब देने वाले कुल लोगों में से करीब आधी युवा लड़कियां और 10 में से चार युवा लड़के इस पैमाने पर खरे नहीं उतर पाए.

लगभग पांच में से एक लड़की और 10 में से एक लड़के ने बताया कि वो और उनके पार्टनर दोनों समान रूप से इसके लिए तैयार नहीं थे. कुछ ने संबंध बनाने के लिए दबाव की बात को स्वीकार किया.

एनएटीएसएएल सर्वेक्षण की संस्थापक प्रोफेसर केय वेलिंग्स कहती हैं, "सहमति की उम्र का मतलब यह नहीं माना जा सकता कि कोई उस उम्र में सेक्शुअली एक्टिव होने के लिए तैयार है. हर नौजवान अलग है, कोई 15 साल की उम्र में भी इसके लिए तैयार हो सकता है और कोई 18 साल में भी असहज महसूस कर सकता है."

सह शोधकर्ता डॉ. मेलिसा पाल्मर कहती हैं, "हमारे शोध से पता चलता है कि यौन संबंधों के लिए लड़कों के मुकाबले लड़कियां अपने पार्टनर की तरफ से ज़्यादा दबाव में रहती हैं."

डॉ. मेलिसा इस सर्वे के ज़रिए सामने आईं कुछ सकारात्मक बातों के बारे में भी बताती हैं. वह कहती हैं, "हालांकि, सर्वे में कुछ सकारात्मक नतीजे भी मिले हैं. जैसे 10 में से 9 लोगों ने बताया कि उन्होंने पहली बार यौन संबंधों के दौरान भरोसेमंद गर्भनिरोधक का इस्तेमाल किया था. "

उन्होंने कहा कि युवा स्कूल में मिलने वाली सेक्स एजुकेशन से सुरक्षित यौन संबंधों के बारे में और बेहतर जान पाएंगे.

सही समय क्या है?

अगर आप सोच रहे हैं कि आपको यौन संबंध बनाने चाहिए, तो सबसे पहले ख़ुद से ये सवाल पूछें:

  • क्या आपको लगता है कि ये सही है?
  • क्या आप अपने पार्टनर को प्यार करते हैं?
  • क्या वो आपको उतना ही प्यार करता/करती है?
  • क्या आप दोनों ने यौन संक्रामक रोगों और एचआईवी से बचने के लिए कॉन्डम इस्तेमाल करने के बारे में बात की है और क्या बातचीत ठीक रही थी?
  • क्या आप दोनों ने गर्भधारण से बचने के लिए गर्भनिरोधक का इंतज़ाम किया है?
  • क्या आप किसी भी समय 'ना' कहने में सहज महसूस करते/करती हैं और क्या आप दोनों इसे स्वीकार करेंगे?

अगर इन सभी सवालों के जवाब आप हां में देते हैं, तो इसका मतलब है कि ये सही समय है.

लेकिन, नीचे दिए गए सवालों के जवाब भी अगर आप 'हां' में देते हैं तो हो सकता है कि संबंधों के लिए ये सही समय न हो.

  • क्या अपने पाटर्नर या दोस्तों से दबाव महसूस कर रहे हैं?
  • क्या आपको इसके बाद कोई अफसोस होगा?
  • क्या आप अपने दोस्तों को प्रभावित करने या उनसे बराबरी करने के लिए यौन संबंध बनाना चाहते हैं?
  • क्या आप सिर्फ अपने पार्टनर को खुश करने या रिश्ता बनाए रखने के लिए यौन संबंध बनाना चाहते हैं?

स्रोत: एनएचएस चॉइसेज

सेक्शुअल हेल्थ चैरिटी ब्रूक की इज़ाबेल इन्मान कहती हैं, "हमें पूरा विश्वास है कि यौन शिक्षा जल्दी शुरू हो जानी चाहिए जिससे लोग सही समय पर सकारात्मक फैसले लेने में सक्षम हो सकें."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार