तब जान जाइए कि आपका प्रेमी ख़तरनाक है

  • 18 सितंबर 2019
घरेलू हिंसा इमेज कॉपीरइट Getty Images

2017 में विश्व में लगभग 30 हज़ार महिलाएं अपने पूर्व या वर्तमान साथी के हाथों मारी गईं.

ब्रिटेन के एक अपराध विशेषज्ञ कहते हैं कि वो पुरुष जो अपनी साथी की हत्या करते हैं, वो हत्या करने के एक घटनाक्रम या समय रेखा पर चलते हैं जिस पर पुलिस नज़र रख सकती है और मौत से बचा सकती है.

डॉक्टर जेन मोंकटन ने ब्रिटेन में हुई 372 हत्याओं में एक आठ चरणीय पैटर्न का पता लगाया.

ग्लोस्टरशायर विश्वविद्यालय की प्रोफ़ेसर का कहना है कि नियंत्रणकारी व्यवहार किसी व्यक्ति में अपनी साथी की हत्या करने की संभावना का एक संकेत हो सकता है.

हत्या की शिकार हुई एक महिला के पिता का कहना है कि अपराध के पैटर्न की इस जानकारी से कई लोगों की 'जान बचाई जा सकती है'.

डॉक्टर मोंकटन स्मिथ कहती हैं कि अपने साथी के हाथों मारे जाने वालों में 80% महिलाएं होती हैं और अधिकांश मामलों में उनका साथी पुरुष होता है.

अपने अध्ययन के दौरान उन्होंने दर्ज हुए ऐसे सभी मामलों पर गौर किया जिनमें मारी गई महिलाओं के अपराधी के साथ संबंध थे.

इसके अलावा उन्होंने ऐसे अन्य कई मामलों का भी अध्ययन किया जिसमें पुरुष अपने पुरुष साथी के हाथों मारे गए थे.

हत्या के घटनाक्रम में जो ठ चरण लगभग सभी हत्याओं में मौजूद थे वो इस तरह से हैंः

  • अपने पूर्व संबंधों में भी अपनी साथी पर चोरी छिपे नज़र रखना, या उत्पीड़न करना.
  • रोमांस का तेज़ी से गहरे संबंधों में तब्दील होना
  • आपसी संबंधों पर हावी होना
  • अपने आप पर नियंत्रण खोने की स्थिति बनाना, उदाहरण के तौर पर संबंध टूट जाना या अपराधी का वित्तीय संकट में आना
  • तेज़ी से स्थिति बिगड़ना- नियंत्रण करने के तरीकों में तेज़ी आना, मिसाल के तौर पर, छिप कर नज़र रखना या बार-बार आत्महत्या की बात करना
  • अपराधी की सोच में बदलाव आना- संबंध को समाप्त करके आगे बढ़ जाना- प्रतिशोध या हत्या के ज़रिए
  • योजना- अपराधी हथियार ख़रीदता है या जिसे वो मारना चाहता है उसे अकेले पाने की कोशिश करता है
  • हत्या- अपराधी अपने साथी की हत्या कर देता है. संभवत: अन्य लोगों को भी चोट पहुंचाने की कोशिश करता है. इन लोगों में मारे गए साथी के बच्चे भी हो सकते हैं.

केवल ऐसे ही मामलों में अपराधी इन चरणों से नहीं गुज़रा जहां उसके पास पहले चरण पर पहुंचने का अवसर नहीं था और वह इसलिए कि उसके पहले किसी के साथ गहरे संबंध नहीं बने थे.

डॉक्टर मोंकटन स्मिथ ने बीबीसी से बात करते हुए कहा, ''इन अपराधों को समझने के लिए हम हमेशा 'उन्माद के कारण हुए अपराध' या 'जूनून में अंधे होकर की गई हत्या' की थ्योरी पर निर्भर रहे हैं, मगर यह सच नहीं है.''

"अगर आप इन मामलों पर ग़ौर करेंगे तो पाएंगे कि यह अपराध योजना बना के उसे अंजाम देने के एक प्रण के साथ किए गए हैं. आप इन मामलों मे ज़बरदस्ती नियंत्रण रखने की प्रवृत्ति हमेशा मौजूद पाएंगे."

इमेज कॉपीरइट Family photo
Image caption एलिस रगल्स की हत्या उनके पूर्व प्रेमी ने कर दी थी.

24 वर्षिय एलिस रगल्स की हत्या उनके पूर्व प्रेमी ने कर दी थी. एलिस के पिता क्लाइव रगल्स इस अध्ययन पर कहते हैं कि अगर पुलिस को डॉक्टर मोंकटन स्मिथ के आठ चरणों वाले मॉडल की पहले जानकारी होती तो स्थिति कुछ और होती.

एलिस रगल्स का पूर्व प्रेमी संबंध टूटने के बाद भी उन पर नज़र रखे हुए था, वह एलिस का पीछा भी करता था और अक्तूबर 2016 में उस शख्स ने एलिस की हत्या कर दी.

क्लाइव रगल्स कहते हैं, "अगर पुलिस को आठ चरणों वाले मॉडल के बारे में पता होता तो, लगातार एलिस को मिलने वाले मेसेज, भावनात्मक ब्लैकमेल, से साफ़ था कि वो पांचवें चरण तक पहुंच चुका था."

"हम समझते है कि इस मॉडल के बारे में ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को जानकारी हो और लोग उस पर अमल करें. तब बहुत से लोगों की ज़िंदगी आसान हो जाएगी और संभवत: कई ज़िंदगियां बच जाएंगी. "

इमेज कॉपीरइट Jane Monckton Smith
Image caption डॉक्टर मोंकटन स्मिथ को भरोसा है कि उनके मॉडल के ज़रिए कई लोगों को जान बचाई जा सकती है.

डॉक्टर मोंकटन स्मिथ ने अपने मॉडल से ब्रिटेन में वकीलों, मनोवैज्ञानिकों, पुलिस कर्मचारियों और प्रोबेशन अधिकारियों को अवगत कराया है.

उनका शोध 'Violence Against Women' जरनल में प्रकाशित भी हुआ है. उन्हें आशा है यह व्यापक स्तर पर लोगों तक पहुंचेगा.

डॉक्टर मोंकटन स्मिथ कहती हैं कि इसे पढ़ने के बाद कई बार उत्पीड़न के शिकार लोग या व्यावसायिक कह सकते हैं, ''मेरे पास जो केस है वो तीसरे चरण तक पहुंच गया है या मेरा संबंध पांचवे चरण में है.'

"पुलिस ने इसे बेहद खुलेपन से लिया है और जिन मामलों की वो पड़ताल करते हैं, उसमें वो समझ जाते हैं कि क्या हो रहा है. यह उनके अनुभवों से मेल खाता है. घरेलू हिंसा, ज़बरदस्ती के नियंत्रण जैसी अफ़रातफ़री के हालाल के बारे में सुचारू तरीक़े से सोच पाने मे उन्हें मदद मिलती है.''

डॉक्टर मोंकटन स्मिथ कहती हैं, "पुलिस इन आठ चरणों को समझ ले तो वो संभावित अपराधियों पर नज़र रख सकती है. वहीं ऐसी घरेलू हिंसा की शिकार महिलाएं मनोवैज्ञानिकों या अन्य व्यावसायिकों को अपनी समस्या या स्थिति के बारे में प्रभावी तरीके से बता पाएंगी.''

डॉक्टर मोंकटन स्मिथ ने कहा कि इस बारे में और अध्ययन होना चाहिए कि क्यों कुछ लोग अंतरंग संबंधों मे ज़बरदस्ती नियंत्रण पाने की कोशिश करते हैं, और घरेलू हिंसा के शिकार लोग किस प्रकार सुरक्षित तरीके से नियंत्रणकारी संबंधों से बाहर निकल सकें.

ये भी पढ़ेंः

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार