अफ़्रीकी संस्कृति से रूबरू कराती तस्वीरें

नाइजीरिया के लागोस फोटो फेस्टिवल में अफ़्रीकी पहचान को दर्शाती तस्वीरें प्रदर्शित हुईं.

इमेज कैप्शन,

यह तस्वीर फोटोग्राफर किज़ुआ ने ली है. उन्होंने यह तस्वीर अपने देश अंगोला में एक फैशन शो के दौरान खींची थी.

इमेज कैप्शन,

घाना के फोटोग्राफर एरिक गैम्फी ने सेल्फ पोट्रेट पर एक फोटो सिरीज़ बनाई है जिसमें धर्म और परंपरा की आड़ में मर्दों की यौनिकता (मर्दाना सेक्स रूझान) को दिखाया गया है.

इमेज कैप्शन,

नाइजीरियाई फोटोग्राफर लैकिन ऑगुनबानवो ने पहनावे में परंपरा और आधुनिकता के मेल को अपनी इस तस्वीर में दिखाया है.

इमेज कैप्शन,

दक्षिण अफ़्रीकी फोटोग्राफर सोकू माइला ने अपनाने की भावना को अपनी इस तस्वीर का थीम बनाया है.

इमेज कैप्शन,

केन्याई फोटोग्राफर ऑस्बॉर्न मसारिया ने एक रिटायर्ड बिजनेस महिला की कल्पना कर उसे अपनी तस्वीर में जगह दी है.

इमेज कैप्शन,

इशोला अकपो ने अफ़्रीकी संस्कृति में दुल्हन की क़ीमत के महत्व को दिखाने के लिए अपनी दादी की यह तस्वीर उतारी है.

इमेज कैप्शन,

यह तस्वीर जेनेसिस कलेक्शन से ली गई है. यह तस्वीर कुदजानई सीरई की है जिन्होंने जिम्बाब्वे की राजनीतिक और सामाजिक परिस्थितियों पर रौशनी डालने की कोशिश की है.

इमेज कैप्शन,

एडड हन्नाह ने थियोडोर गेरीकॉल्ट के 19वीं सदी के काम को फिर से अपनी कल्पना की उड़ान दी है. इस तस्वीर में दो सौ साल पहले सेनेगल के तट पर टूटे जहाज के मलबे को दिखाया गया है.

इमेज कैप्शन,

फ्रेच फोटोग्राफर पैट्रिक विलोक़ ने 'द आर्ट ऑफ़ सर्वाइवल' नाम दिया अपने इस तस्वीर को. वो डेमोक्रेटिक रिपब्लिक ऑफ़ कांगो में रह चुके हैं. इस तस्वीर में उन्होंने कांगो गणराज्य के बच्चों की व्यथा को दिखाया है.

इमेज कैप्शन,

मोज़ाबिक़ के फोटोग्राफर मारियो मैकेलाउ ने अफ़्रीका में बढ़ते ई कचरे को अपनी तस्वीर का हिस्सा बनाया है.