माओवादी दस्ते के लिए काम कर चुकी गीता ने की नई शुरुआत

गीता ने बीबीसी को बताया कि आत्मसमर्पण करने की वजह से स्थानीय प्रशासन ने उन्हें पुनर्वास का आश्वासन दिया.

उन्होंने कहा- "मुझे ज़िला पुलिस बल में तैनात कर दिया. मैं पुलिस बल की गुप्तचर शाखा के लिए काम करती हूँ. रहने के लिए मुझे एक सरकारी घर भी दिया गया है. जंगल के बाहर आकर अब मुझे अच्छा लग रहा है."