'नोटबंदी से फ़ायदा कम, नुक़सान ज़्यादा'

लेखक गुरचरण दास का मानना है कि नोटबंदी की वजह से लाखों नौकरियां जाएंगी और सरकार को पछताना होगा