पटना नाव हादसे का प्रत्यक्षदर्शी
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

'नाव पर ज्यादा लोग थे और कोई उतर नहीं रहा था'

पटना में मकर संक्रांति के दिन नाव हादसे में बीस से अधिक लोगों की मौत हो गई थी.

प्रत्यक्षदर्शी मिथिलेश महतो ने बताया कि नाव जब धीरे धीरे डूबने लगी तो वो पानी में कूद गए और तैर कर किनारे पर आए जिसके कुछ मिनटों बाद बड़ी नाव आई लोगों को बचाने.

उनके अनुसार 20 मिनट बाद स्टीमर आई जिसने जाल फेंककर लोगों को बचाने की कोशिश की थी.

मिलते-जुलते मुद्दे