अपनों से बिछड़े वांग छी अपनों से मिले
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

BBC IMPACT: 54 साल बाद जब चीन में रिश्तेदारों से मिले तो फूट-फूटकर रोए वांग छी

भारत में पांच दशकों से फंसे पूर्व चीनी सैनिक वांग छी शनिवार को चीन की ज़मीन पर वापस पहुंचे.

अपने रिश्तेदारों से मिल कर वांग छी भावुक हो उठे. वो उनसे गले मिले और काफी देर तक एक-दूसरे को पकड़कर रोते रहे.

(ये वीडियो वांग छी परिवार ने बीबीसी को भेजा है.)

वांग छी के साथ उनके बेटे, बहू और बेटी भी चीन पहुंचे हैं.

इससे पहले, शनिवार सुबह चीन के लिए उड़ान भरने से पहले उन्होंने तिरोड़ी गांव के लोगों के लिए कहा था, "तुम लोग अफ़सोस मत करो. मैं अपनी जन्मभूमि देखकर वापस आ जाऊंगा. वहां जाकर मुझे संतोष और ख़ुशी मिलेगा."

सैकड़ों अर्ज़ियां बेकार, बीबीसी का पड़ा असर

54 साल से भारत में फँसा चीनी सैनिक

वांग छी के मुताबिक 1963 में वो ग़लती से भारत में घुस आए थे. कई साल विभिन्न जेलों बिताने के बाद उन्हें मध्य प्रदेश के तिरोड़ी गांव में छोड़ दिया गया था जहां उन्होंने अपना घर बसा लिया था.

परिवार से दूरी के कारण वो घंटों रोते थे और परिवार को याद करते थे.

उन्होंने बीबीसी का शुक्रिया करते हुए कहा, "बीबीसी के खरे साब को कहीं से मालूम हो गया. मेरी स्टोरी सुनी तो उन्हें बहुत दुख हुआ और वो मेरे घर आए. मेरी पूरी कहानी सुनी और छापी. उसके बाद पूरे संसार को पता चल गया. सरकार को भी लगा कि इस आदमी को ज़रूर भेजो."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे