पारसी: गुजराती या ईरानी या पाकिस्तानी
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

पारसी: गुजराती या ईरानी या पाकिस्तानी

  • 22 अगस्त 2017

विभाजन के समय पाकिस्तान के विभिन्न क्षेत्रों ख़ासकर कराची और लाहौर में कई पारसी परिवार रहते थे जिनके अधिकतर लोग व्यवसाय से जुड़े थे. करीमन पारेख का जन्म तो लाहौर का है लेकिन वह अभी कराची में भारतीय बीवीएस पारसी ब्याज़ स्कूल की प्रिंसिपल हैं.

वह कहती हैं कि विभाजन के समय पारसियों को विस्थापित करने की ज़रूरत महसूस नहीं हुई, और उन्हें कभी चरमपंथ का सामना नहीं करना पड़ा. लेकिन अब सामाजिक व्यवहार में कुछ बदलाव आया है.

मिलते-जुलते मुद्दे