'अमरीका जाना मंगल ग्रह की यात्रा जैसा था'
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

'अमरीका जाना मंगल ग्रह की यात्रा जैसा था'

  • 15 सितंबर 2017

सोमालियाई शरणार्थी आब्दी इफ़्तिन ने केन्या से अमरीका पहुंचने के बाद उन अनुभवों को साझा किया जो उनकी पहचान से जुड़े हैं.

इफ़्तिन कहते हैं, "अमरीका के बारे में सबसे अच्छी बात ये है कि यहां बेहद शांति है लेकिन यहां के लोगों के ये समझाने में बड़ी दिक्कत है कि हम आख़िर कौन और कैसे हैं."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)